होम गोरखपुर हादसा: हीरो बने डॉ. कफील का चौकाने वाला सच आया सामने

उत्तर प्रदेश

गोरखपुर हादसा: "हीरो" बने डॉ. कफील का चौकाने वाला सच आया सामने

गोरखपुर के BRD मेडिकल कॉलेज में कई बच्‍चों की मौत के बीच टाई-कोर्ट पहने बाल रोग विशेषज्ञ और इंसेफलाइटिस वार्ड के हेड डॉ कफील खान के रोल की जबर्दस्त तारीफ हो रही थी। कफील को हीरों बना दिया गया क्‍योंकि उन्होंने मुश्किल समय में अपने प्राइवेट क्लिनिक से ऑक्सीजन सिलेंडर मंगवाए और मदद की।

गोरखपुर हादसा: हीरो बने डॉ. कफील का चौकाने वाला सच आया सामने

गोरखपुर के BRD मेडिकल कॉलेज में कई बच्‍चों की मौत के बीच टाई-कोर्ट पहने बाल रोग विशेषज्ञ और इंसेफलाइटिस वार्ड के हेड डॉ कफील खान के रोल की जबर्दस्त तारीफ हो रही थी। कफील को हीरों बना दिया गया क्‍योंकि उन्होंने मुश्किल समय में अपने प्राइवेट क्लिनिक से ऑक्सीजन सिलेंडर मंगवाए और मदद की। लेकिन अब डॉक्‍टर कफील अहमद की जो सच्‍चाई सामने आई है वो चौका देने वाली है। जी हां मेडिकल कॉलेज से जुड़े कई लोगों ने उन मीडिया रिपोर्ट्स पर हैरानी जताई है जिनमें कफील को फरिश्ते की तरह दिखाया गया है। आइये जानते है कफील से जुड़ी कुछ बातें जो कफील को विलन बना रही हैं -

डॉ कफील BRD मेडिकल कॉलेज के इन्सेफेलाइटिस डिपार्टमेंट के चीफ नोडल ऑफिसर हैं लेकिन वो मेडिकल कॉलेज से ज्यादा अपनी प्राइवेट प्रैक्टिस के लिए जाने जाते हैं। उनपर आरोप है कि वो अस्पताल से ऑक्सीजन सिलेंडर चुराकर अपने निजी क्लीनिक पर इस्तेमाल करते थे।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक मेडिकल कॉलेज के कई कर्मचारियों ने इस बात का खुलासा किया कि बीते शुक्रवार को जब बच्चों की मौत की खबर पर हंगामा मचा तो कफील अपने प्राइवेट अस्पताल में थे। वहां से उन्होंने कुछ सिलेंडरों को अस्पताल भिजवा दिया। क्योंकि ये वो सिलेंडर थे जो वो खुद मेडिकल कॉलेज से चोरी करके ले गए थे। उन्होंने मीडिया को बताया कि इन सिलेंडरों का इंतजाम उन्होंने अपनी जेब से किया है।

जानकारी के मुताबिक कफील और प्रिंसिपल राजीव मिश्रा के बीच गहरी साठगांठ थी और दोनों इस हादसे के लिए सबसे ज्यादा जिम्मेदार हैं। लेकिन हादसे के बाद से ही उन्हें फरिश्ते की तरह दिखाया गया था, कहा जा रहा है कि इसमें उन्होंने अपने पत्रकार दोस्तों की मदद ली।

डॉ. कफील मेडिकल कॉलेज की खरीद कमेटी का मेंबर है। उसे भी ऑक्सीजन सप्लाई की स्थिति के बारे में पूरी जानकारी थी। दो दिन पहले जब CM योगी आदित्यनाथ मेडिकल कॉलेज के दौरे पर आए थे वो भी उनके इर्द-गिर्द घूम रहा थे। लेकिन उसने भी उन्हें ऑक्सीजन की बकाया रकम के बारे में कुछ नहीं बताया।

हर सिलेंडर पर कमिशन खाते थे कफील -
मेडिकल कॉलेज के कई कर्मचारियों और डॉक्टरों ने इस बात की पुष्टि की है कि डॉक्टर कफील वहां होने वाली हर खरीद में कमीशन लेते थे। और उसका एक तय हिस्सा प्रिंसिपल राजीव मिश्रा तक पहुंचाता था। ऑक्सीजन कंपनी पुष्पा सेल्स के साथ चल रहे विवाद में भी राजीव मिश्रा के साथ कफील का बड़ा हाथ था।

CM योगी ने लगाई फटकार-
मेडिकल कॉलेज के सूत्रों ने बताया कि जब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मेडिकल कॉलेज पहुंचे तो उन्होंने बंद कमरे में पूरे स्टाफ की क्लास लगाई। डॉ पूर्णिमा और बाल रोग विभाग की HOD से पूछा कि एक दिन में कितने सिलेंडर की जरूरत होती है तो उन्होंने बताया कि 21। इस पर योगी ने डॉ. काफिल से पूछा कि जब 21 सिलेंडर की जरूरत होती है तो फिर तीन सिलेंडर की व्यवस्था करके मीडिया में हीरो बनने चले गए। तुम बाहर कैंपस में फोटो खिंचाने में बिजी रहे, अंदर बाकी साथी चिकित्सक इलाज कर रहे थे। सब फोटो खिंचाने लगेंगे तो इलाज कौन करेगा।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

(Last 14 days)

Facebook

To Top