शिक्षा

वसुधैव कुटुम्बकम की भावना से ही विश्व में एकता एवं शान्ति संभव- डा. (श्रीमती) भारती गाँधी

वसुधैव कुटुम्बकम की भावना से ही विश्व में एकता एवं शान्ति संभव- डा. (श्रीमती) भारती गाँधी

वसुधैव कुटुम्बकम की भावना से ही विश्व में एकता एवं शान्ति संभव- डा. (श्रीमती) भारती गाँधी

Photo

लखनऊ, 23 सितम्बर। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, गोमती नगर ऑडिटोरियम में आयोजित विश्व एकता सत्संग में बोलते हुए बहाई धर्मानुयायी, प्रख्यात शिक्षाविद् व सी.एम.एस. संस्थापिका-निदेशिका डा. (श्रीमती) भारती गाँधी ने कहा कि सी.एम.एस. के छात्रों को बचपन से ही ‘जय जगत’ एवं ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ की शिक्षा दी जाती है। उन्हें भौतिक, मानवीय था आध्यात्मिक शिक्षा देकर उनका सर्वांगीण विकास किया जाता है। यही बच्चे बड़े होकर दुनिया से लड़ाइयां खत्म करायेंगे तथा विश्व के सभी धर्मों के लोगों में एकता, शान्ति तथा प्रेम की स्थापना करेंगे। सी.एम.एस. के छात्र इस शिक्षा के साथ बड़े होते हैं कि ईश्वर एक है तथा मानव धर्म ही सबसे बड़ा धर्म है। इससे पहले, सी.एम.एस. शिक्षकों द्वारा प्रस्तुत सुमधुर भजनों से विश्व एकता सत्संग का शुभारम्भ हुआ, जिन्होंने बहुत ही 
सुमधुर भजन सुनाकर सम्पूर्ण वातावरण को आध्यात्मिक उल्लास से सराबोर कर दिया।
    विश्व एकता सत्संग में आज सी.एम.एस. राजाजीपुरम प्रथम कैम्पस के छात्रों ने रंगारंग शिक्षात्मक-आध्यात्मिक कार्यक्रम प्रस्तुत कर सबका मन मोह लिया। स्कूल प्रार्थना के पश्चात बच्चों की माताओं ने वन्दे मातरम गीत की शानदार प्रस्तुति दी। ‘हैप्पीनेस इज समथिंग’ व ‘वन मोर स्टेप’ गाकर बच्चों ने सबको मंत्रमुग्ध कर दिया। कई लघु नाटिकाओं की प्रस्तुति एवं ‘सिन्ड्रेला’ नृत्य ने भी खूब वाहवाही बटोरी। छात्रों ने ‘जल संरक्षण’ पर नुक्कड़ नाटक एवं भगवान श्रीकृष्ण पर नृत्य नाटिका प्रस्तुत कर सबका मन मोह लिया। इस अवसर पर कई विद्वजनों ने सारगर्भित विचार व्यक्त किये। सत्संग का समापन संयोजिका श्रीमती वंदना गौड़ द्वारा धन्यवाद ज्ञापन से हुआ।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top