उत्तर प्रदेश

SC-ST एक्ट बदलाव को लेकर रसड़ा नगर में लोगो ने जमकर किया प्रदर्शन

SC-ST एक्ट बदलाव को लेकर रसड़ा नगर में लोगो ने जमकर किया प्रदर्शन

SC-ST एक्ट बदलाव को लेकर रसड़ा नगर में लोगो ने जमकर किया प्रदर्शन

Photo

सुप्रीम कोर्ट की ओर से SC/ST एक्ट में बदलाव के खिलाफ कई संगठनों ने सोमवार को "भारत बंद" का समर्थन किया है। इसके तहत कई पार्टियों और संगठनों के कार्यकर्ता सड़कों पर उतर आये हैं. "वहीं दलित, पिछड़े व अल्पसंख्यक के छात्र नेताओं एवं समाज सेवियों ने आज "रसड़ा नगर" में भारत बंद का समर्थन करते हुए बड़ी संख्या में रैली निकाली गयी जिसमे सभी दलित, पिछड़े और अल्पसंख्यक लोग शामिल थे। ये रैली भगत सिंह तिराहा होते हुए गाँधी पार्क व प्यारे लाल चौराहा पर जमकर नारेबाजी के साथ की हुई। 

रैली में "बाबा साहब अमर रहे"....."संबिधान जिंदाबाद" के नारे लगाये गए। 

बता दें कि इस रैली (सभा) के आयोजक शिव शंकर रावत, सर्वदास कन्नोजिया और नंदलाल ने कहा कि दलितों के हित में जो कानून बनाये गए है पहले से वही रहने दें अब इसमें कोई बदलाव न किया जाय। क्योंकि कानून के इस बदलाव से सक,ST व अन्य गरीब शोषित समाज पर अत्याचार बढेगा | वरिष्ठ नेता वीर वंश राम, राहुल भारती, अजीत, धनञ्जय,अभिषेक, प्रकाश, विनोद, एवं मनोज भारती ने इस रैली का नेत्रत्व किया। 

इस रैली में सबसे आगे "जावेद अंसारी जाम राष्ट्रीय ध्वज लेकर भारतीयता एवं देशभक्ति की भावना जाग्रत की .इस रैली में प्रवीण कुमार, चंद्रभूषण, संजय, प्रमोद, गौतम,डब्लू,नेयाज, शारदा, सदानंद,अनिल राव, अनिल राना एवं हजारों की संख्या में युवा महिलये एवं पुरुष शामिल थे। 

आपको बता दें कि दलितों के हितों की रक्षा संबंधी कानून में बदलाव के फैसले के बाद आज देश भर में हो रहे विरोध-प्रदर्शनों में कई जगहों पर ट्रेनों को रोक दिया गया कई स्थानों पर आगजनी और गोलीबारी जैसे प्रदर्शन किये गए। 

ज्ञात हो कि सुप्रीम कोर्ट की ओर से SC/ST एक्ट में बदलाव के खिलाफ कई संगठनों ने सोमवार को "भारत बंद" का समर्थन किया है। इसके तहत कई पार्टियों और संगठनों के कार्यकर्ता सोमवार को सड़कों पर उतरे हैं। ओडिशा और बिहार में ट्रेनें रोककर विरोध भी जाहिर किया जा रहा है। वही मैनपुरी में गोलीबारी हुई जिसमे कई लोग मारे गए। सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में एक याचिका पर सुनवाई करते हुए देशभर में SC/ST एक्ट के बड़े पैमाने पर गलत इस्तेमाल की बात को स्वीकार करते हुए ऐतिहासिक फैसला सुनाया है।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top