मातृभाषा के साथ-साथ बच्चों को अंग्रेजी भाषा का ज्ञान परम आवश्यक - डा. महेन्द्र सिंह

मातृभाषा के साथ-साथ बच्चों को अंग्रेजी भाषा का ज्ञान परम आवश्यक - डा. महेन्द्र सिंह

मातृभाषा के साथ-साथ बच्चों को अंग्रेजी भाषा का ज्ञान परम आवश्यक - डा. महेन्द्र सिंह

Photo

लखनऊ, 21 अगस्त। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, राजाजीपुरम (प्रथम कैम्पस) द्वारा आयोजित चार दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय अंग्रेजी साहित्य महोत्सव ‘ओडिसी इण्टरनेशनल-2019’ का भव्य उद्घाटन आज सायं रंगारंग शिक्षात्मक-साँस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ सी.एम.एस. कानपुर रोड ऑडिटोरियम में सम्पन्न हुआ। मुख्य अतिथि के रूप में पधारे डा. महेन्द्र सिंह, कैबिनेट मंत्री, उ.प्र., ने दीप प्रज्वलित कर इस अनूठे अन्तर्राष्ट्रीय महोत्सव का विधिवत शुभारम्भ किया। उद्घाटन समारोह में जहाँ एक ओर सी.एम.एस. छात्रों ने भारतीय लोक गीतों का आलोक बिखरते शिक्षात्मक-साँस्कृतिक कार्यक्रमों का समाँ बाँधकर दर्शकों को झूमने पर मजबूर कर दिया तो वहीं दूसरी ओर विभिन्न देशों से पधारे प्रतिभागी छात्रों ने आत्मीयतापूर्ण माहौल में एक अलग अंदाज में अपना परिचय प्रस्तुत कर सभी का दिल जीत लिया। विदित हो कि ‘ओडिसी इण्टरनेशनल-2019’ का आयोजन 21 से 24 अगस्त तक किया जा रहा है, जिसमें दक्षिण अफ्रीका, नेपाल एवं देश के विभिन्न प्रान्तों के लगभग 500 छात्र विभिन्न रोचक प्रतियोगिताओं में अपनी प्रतिभा का आलोक बिखेर रहे हैं।

            ‘ओडिसी इण्टरनेशनल-2019’ के उद्घाटन समारोह में देश-विदेश के प्रतिभागी छात्रों को सम्बोधित करते हुए मुख्य अतिथि डा. महेन्द्र सिंह, कैबिनेट मंत्री, उ.प्र., ने कहा कि अंग्रेजी भाषा पूरे विश्व में अपनी पहचान बना चुकी है और यह भाषा हमें एक नई विश्व संस्कृति की ओर ले जा रही है। आज के बदलते परिवेश में हमें अपनी मातृभाषा हिन्दी के साथ-साथ बच्चों को अंग्रेजी साहित्य का भी ज्ञान कराना आवश्यक है।

            उद्घाटन समारोह में प्रतिभागी छात्रों व टीम लीडरों का स्वागत करते हुए ‘ओडिसी इण्टरनेशनल-2019’ की संयोजिका एवं सी.एम.एस. राजाजीपुरम (प्रथम कैम्पस) की प्रिन्सिपल श्रीमती निशा पाण्डेय ने कहा कि सिटी मोन्टेसरी स्कूल विश्व बन्धुत्व और विश्व एकता के लिए कई वर्षों से प्रयासरत है और उसी कड़ी में हम यह अंग्रेजी महोत्सव आयोजित कर रहे हैं। अंग्रेजी आज एक ग्लोबल भाषा के रूप में सबसे सक्षम है और संचार की भाषा के रूप में यह उभर कर आई है जो संसार भर के लोगों को एक सूत्र में पिरोती है। सी.एम.एस. का नारा ‘जय जगत’ और ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ को साकार करने में यह भाषा बेहद उपयोगी सिद्ध हुई है। श्रीमती पाण्डेय ने कहा कि ‘ओडिसी’ एक खोज है, एक यात्रा है जिसके द्वारा हम छात्रों में छिपी प्रतिभा को खोजकर बाहर निकालने का प्रयास कर रहे हैं।

            इससे पहले आज अपरान्हः सत्र में एक प्रेस कान्फ्रेन्स का आयोजन किया गया जिसमें देश-विदेश से पधारे छात्रों ने खुलकर अपने विचार व्यक्त किए। प्रेस कान्फ्रेन्स में अपने विचार व्यक्त करते हुए माउंट व्यू इंग्लिश बोर्डिंग स्कूल, नेपाल से पधारे छात्रों ने कहा कि अंग्रेजी पढ़ने व उसमें नाटक, वाद-विवाद, भाषण, कविता पाठ, निबन्ध आदि प्रतियोगिताओं में प्रतिस्पर्धा करने में उन्हें बड़ा मजा आता है। हम लोग इस अंग्रेजी साहित्य महोत्सव की प्रतियोगिताओं में पूरे जोशो-खरोश से भाग लेंगे। फेमसिसा साउथ स्कूल, दक्षिण अफ्रीका से पधारे छात्रों ने कहा कि वे यहाँ पर अंग्रेजी विषय के ज्ञान का आदान-प्रदान तो करेंगे ही, साथ ही विभिन्न देशों की संस्कृति व सभ्यता के बारे में भी जानने का सुअवसर प्राप्त होगा जिससे आपसी भाईचारे की भावना जागृत होगी। इसी प्रकार नबीन औद्योगिक केदार बहादुर रीता सेकेण्डरी स्कूल, नेपाल से पधारे छात्रों का कहना था कि सी.एम.एस. के छात्रों और शिक्षकों ने उनका इतना बढ़िया और सुसंस्कृत रूप से स्वागत किया कि वे भाव-विभोर हो गये। सी.एम.एस. का माहौल बहुत ही सौहार्दपूर्ण और शान्त व सुखमय प्रतीत है। इसी प्रकार देश-विदेश से पधारे प्रतिभागी छात्रों ने कहा कि हम ‘ओडिसी इण्टरनेशनल’ में बड़े जोश से हिस्सा लेंगे, साथ ही अंग्रेजी को लिंक भाषा के रूप में लेते हुए अपने विचारों का आदान-प्रदान करेंगे और एकता का झण्डा फहरायेंगे।

            सी.एम.एस. संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गाँधी ने कहा कि इस बात को हमें खुले दिल से स्वीकार करना चाहिए कि अंग्रेजी भाषा अब दुनिया भर के लोगों से सम्पर्क स्थापित करने वाली लिंक भाषा बन गयी है। इसलिए यह आज की परम आवश्यकता है कि हम छात्रों को उच्च कोटि का अंग्रेजी ज्ञान दें और पूरे विश्व के छात्रों को एकता के सूत्र में बाँधे। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि सी.एम.एस. का विश्वास है कि निकट भविष्य में सारा विश्व एक सूत्र में बंध जायेगा। इसी के अनुरूप सी.एम.एस. छात्रों को अंग्रेजी का उच्च कोटि का ज्ञान देने के साथ ही विश्व शान्ति व विश्व एकता की शिक्षा भी दे रहा है और यह अन्तर्राष्ट्रीय अंग्रेजी महोत्सव भी इसी की एक कड़ी है।

            ओडिसी इन्टरनेशनल-2019 के अन्तर्गत प्रतियोगिताओं का दौर कल प्रातः 9.00 बजे से प्रारम्भ हो जायेगा जो कि 24 अगस्त को पुरस्कार वितरण समारोह के साथ सम्पन्न होगा। कल, 22 अगस्त, वृहस्पतिवार को आयोजित होने वाली प्रतियोगिताओं में द थेस्पियन्स ड्रीम (टैलेन्ट शो), स्पेक्टेकल डि डांस (कोरियोग्राफी), कागिटेशन (वाद-विवाद), सैटिरिकल कैरीकेचर्स (कार्टून मेकिंग), फ्रेस्कोस (पेन्टिंग) एवं सिनेमैटिक्स आदि आदि प्रमुख हैं। इसके अलावा ओपेन माइक सेशन एवं वीडियो कान्फ्रेन्सिंग के माध्यम से सारगर्भित परिचर्चा का आयोजन किया जायेगा। श्री शर्मा ने बताया कि ‘ओडिसी इण्टरनेशनल-2019’ में देश-विदेश की लगभग 50 छात्र टीमें प्रतिभाग कर रही हैं।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top