त्योहार

कमल किशोर भावुक द्वारा रचित, बसन्त पर्व पर तीन छन्द

कमल किशोर भावुक द्वारा रचित, बसन्त पर्व पर तीन छन्द

कमल किशोर भावुक द्वारा रचित, बसन्त पर्व पर तीन छन्द

Photo

~ # वसन्त - पर्व पर तीन छन्द निवेदित # ~ - -

मेरे भारत में हो सदैव के लिये - - - वसन्त का बसेरा माँ !

# एक #

घिर रहे घृणा के हैं घन - घोर हर ऒर , वृक्ष पाप के हैं देखो फलते ही जा रहे ।

प्रगति के पाँव पर हो रहे प्रहार , ऐसी - कुटिल - कुचाली चाल चलते ही जा रहे।

सिसके सुहानी रात , शंकित शशांक और - शान्ति - सर्जना के सूर्य ढलते ही जा रहे।

सदभावनाएँ और सुषमा वसुन्धरा की - देखो दानवों के दल दलते ही जा रहे।

# दो #

मधुमास के दिवस भटके मुसाफिर - से , प्रेमियों के मन को भी अब न सुहाते हैं।

होकर मगन वृक्ष झूमने में झिझकें व - भावुक ये हरियाले खेत न लुभाते हैं।

बुलबुल के तरानों में छिपी हैं वेदनाएँ , वाटिका में फूल खिलने में सकुचाते हैं।

अलसाये - अलसाये अलियों के दल और - ताल पर तैरते कमल अकुलाते हैं।

# तीन #

लगें रुष्ट भावुक विवशता में ऋतुराज , ऐसे पतझार ने है डाल दिया डेरा माँ !

प्रकृति धरा पे जब दिखती दुखी - सी खुद, तब कैसे सम्भव है स्वर्णिम सबेरा माँ !

सुना , तेरे पद - पंकजों में बसता वसन्त , इसलिये टेरता तुझे है लाल तेरा माँ !

करो कुछ ऐसी कृपा - कोर मेरे भारत में - हो सदैव के लिये वसन्त का बसेरा माँ !

# Kamal Kishor Bhavuk #

लखनऊ, 7897747107

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

Facebook

To Top