शिक्षा

एलीट इण्डिया स्कूल की ऑल इण्डिया रैंकिंग में सी.एम.एस. गोमती नगर कैम्पस सर्वश्रेष्ठ

एलीट इण्डिया स्कूल की ऑल इण्डिया रैंकिंग में सी.एम.एस. गोमती नगर कैम्पस  सर्वश्रेष्ठ

एलीट इण्डिया स्कूल की ऑल इण्डिया रैंकिंग में सी.एम.एस. गोमती नगर कैम्पस सर्वश्रेष्ठ

Photo

लखनऊ, 15 अक्टूबर। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, गोमती नगर (प्रथम कैम्पस) को एलीट इण्डिया स्कूल रैंकिंग 2018-19 में शैक्षणिक उत्कृष्टता एवं शिक्षक विशेषज्ञता के क्षेत्र में राष्ट्रीय स्तर पर 15वाँ स्थान जबकि तकनीक, सृजनात्मकता एवं संसाधनों के क्षेत्र में राष्ट्रीय स्तर पर 16वाँ स्थान हासिल हुआ है। इस उपलब्धि हेतु अभी हाल ही में सी.एम.एस. गोमती नगर (प्रथम कैम्पस) की प्रधानाचार्या श्रीमती आभा अनन्त को एक भव्य सम्मान समारोह में प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया गया। सम्मान समारोह का आयोजन होटल लीला एम्बियन्स, गुरूग्राम, हरियाणा में सम्पन्न हुआ। इस अवसर पर विद्यालय की हेड मिस्ट्रेस श्रीमती सबा हुसैन भी उपस्थित थीं। इस अवार्ड से सम्मानित होकर सी.एम.एस. गोमती नगर (प्रथम कैम्पस) ने सी.एम.एस. के गरिमामयी इतिहास में एक और उपलब्धि जोड़ दी है।

सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी श्री हरि ओम शर्मा ने बताया कि इस अवार्ड हेतु देश भर के 250 से अधिक प्रख्यात विद्यालयों ने स्क्रीनिंग में प्रतिभाग किया जिसमें से मात्र 25 विद्यालयों को पुरस्कार हेतु चयनित किया गया तथापि लीडरशिप एण्ड रिसोर्सेज, इनोवेशन, टीचिंग सब्जेक्ट एक्सपर्ट्स, स्टूडेन्ट एकेडमिक प्रोफिसिएन्सी आदि विभिन्न मानकों पर सी.एम.एस. गोमती नगर (प्रथम कैम्पस) को बेहतर आंका गया। इसके अलावा, विद्यालय के लगभग 100 छात्रों एवं अंग्रेजी व गणित के शिक्षकों ने ऑनलाइन प्रतियोगिता में भी प्रतिभाग किया।

श्री शर्मा ने बताया कि सी.एम.एस. ने ‘ब्राडर एण्ड बोल्डर शिक्षा पद्धति’ को अपनाया है जो वर्तमान 21वीं सदी में छात्रों को क्वालिटी की विचारधारा से परिपूर्ण करती है, साथ ही उनमें नैतिक, चारित्रिक, सामाजिक व आध्यात्मिक गुणों का विकास कर उन्हें ‘विश्व नागरिक’ बनाती है। सी.एम.एस. अपने छात्रों को न सिर्फ सर्वश्रेष्ठ शिक्षा प्रदान करने में अग्रणी है अपितु एकता, शान्ति व मानवाधिकारों की भावना को देश व विश्व में बढ़ावा देने में भी सदैव अग्रणी रहा है। सी.एम.एस. के सभी कैम्पस में छात्रों को भौतिक, सामाजिक व आध्यात्मिक शिक्षा प्रदान करने के साथ ही साथ विभिन्न सामाजिक-साँस्कृतिक गतिविधियों, खेल, शिक्षकों की गुणवत्ता, शिक्षक-छात्र अनुपात, अभिभावकों का विद्यालय की शैक्षिक प्रक्रिया में दखल, इन्फ्रास्ट्रक्चर आदि पर विशेष ध्यान दिया जाता है।

इसके अलावा किताबी शिक्षा के साथ-साथ छात्रों नैतिक व चारित्रिक उत्थान पर विशेष जोर दिया जाता है। इन्हीं प्रयासों का प्रतिफल है कि यूनेस्को शान्ति शिक्षा पुरस्कार समेत विभिन्न पुरस्कारों से सी.एम.एस. को नवाजा जा चुका है।
 

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top