शिक्षा

विशाल मार्च निकालकर चरित्र निर्माण का अलख जगाया सी.एम.एस. छात्रों ने

विशाल मार्च निकालकर चरित्र निर्माण का अलख जगाया सी.एम.एस. छात्रों ने

विशाल मार्च निकालकर चरित्र निर्माण का अलख जगाया सी.एम.एस. छात्रों ने

Photo

लखनऊ, 1 नवम्बर। सिटी मोन्टेसरी स्कूल के हजारों छात्रों ने आज विशाल ‘चरित्र निर्माण मार्च’ निकालकर भावी पीढ़ी के चरित्र निर्माण की पुरजोर आवाज बुलन्द की और संदेश दिया कि चारित्रिक व नैतिक उत्थान के बगैर आदर्श समाज की परिकल्पना साकार नहीं हो सकती है। मुख्य अतिथि श्री आलोक सिन्हा, आई.ए.एस., अपर मुख्य सचिव, माध्यमिक शिक्षा, उ.प्र. ने झंडी दिखाकर चरित्र निर्माण मार्च का शुभारम्भ किया, साथ ही सी.एम.एस. संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गाँधी एवं डा. (श्रीमती) भारती गाँधी के साथ मार्च का नेतृत्व भी किया। सी.एम.एस. छात्रों का यह विशाल मार्च गोमती नगर स्थित मकदूमपुर पुलिस चौकी से प्रारम्भ हुआ एवं सी.एम.एस. गोमती नगर (द्वितीय कैम्पस) ऑडिटोरियम पहुँचकर एक विशाल सभा में परिवर्तित हो गया। मार्च के माध्यम से सी.एम.एस. छात्रों ने भावी पीढ़ी के चारित्रिक व नैतिक विकास हेतु सम्पूर्ण समाज में ईश्वरीय वातावरण निर्मित करने का भरपूर उत्साह जगाया। इस विशाल मार्च में सी.एम.एस. की विभिन्न कैम्पस की प्रधानाचार्याओं समेत अनेक गणमान्य हस्तियों ने अपनी उपस्थिति दर्ज करायी।

सी.एम.एस. छात्रों का चरित्र निर्माण मार्च सी.एम.एस. गोमती नगर (द्वितीय कैम्पस) ऑडिटोरियम पहुँचकर ‘मेधावी छात्र सम्मान समारोह’ में परिवर्तित हो गया। मुख्य अतिथि श्री आलोक सिन्हा, आई.ए.एस., अपर मुख्य सचिव, माध्यमिक शिक्षा, उ.प्र. ने समारोह का विधिवत् उद्घाटन किया। छात्रों को सम्बोधित करते हुए श्री सिन्हा ने कहा कि यह समारोह छात्रों को न सिर्फ परीक्षा के लिए अपितु जीवन के लिए तैयार करने के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है। उन्होंने सी.एम.एस. संस्थापक डा. जगदीश गाँधी के व्यक्तित्व व कृतित्व से सीख लेने हेतु छात्रों को प्रेरित किया और कहा कि हर व्यक्ति अलग एवं अद्भुद है, इसलिए कर्म करो, मेहनत से पढ़ों और परिणाम की चिन्ता न करो। श्री सिन्हा ने छात्रों को स्वयं पर विश्वास करने, सरल और साधारण जीवन जीने एवं सदा प्रसन्न रहने का सुझाव दिया। 

 ‘मेधावी छात्र सम्मान समारोह’ में विद्यालय के आई.सी.एस.ई (कक्षा-10) के मेधावी छात्रों को पुरष्कृत कर सम्मानित किया गया। समारोह की खास बात रही कि छात्रों के साथ ही उनके माता-पिता व टीचर-गार्जियन को भी सम्मानित किया गया। इस भव्य समारोह में आई.सी.एस.ई (कक्षा-10) की द्वितीय इण्टर-कैम्पस तुलनात्मक परीक्षा में 96.34 प्रतिशत अंक अर्जित कर टॉपर रहे सी.एम.एस. गोमती नगर (द्वितीय कैम्पस) के छात्र शाश्वत वर्मा को विशेष रूप से सम्मानित किया गया एवं उनकी माताजी को फलों व फूलों से तौलकर एवं पिताजी को शाल भेंटकर सम्मानित किया गया। इसके अलावा, सी.एम.एस. के प्रत्येक कैम्पस के टॉपर छात्रों को भी सम्मानित किया गया। 

इस अवसर पर सी.एम.एस. के वरिष्ठ शिक्षक-शिक्षिकाओं ने अलग-अलग विषयों पर छात्रों का मार्गदर्शन किया एवं आगामी बोर्ड परीक्षाओं की तैयारी हेतु जरूरी सुझाव देते हुए उनका उत्साहवर्धन किया। राजेन्द्र नगर (प्रथम कैम्पस) की शिक्षिका सुश्री शाश्वती भट्टाचार्य ने इंग्लिश लैग्वेज विषय पर, गोमती नगर (प्रथम कैम्पस) की शिक्षिका सुश्री मुग्धा कुमार ने इंग्लिश लिटरेचर विषय पर, गोमती नगर (द्वितीय कैम्पस) की शिक्षिका सुश्री सुनीता द्विवेदी ने भूगोल विषय पर जबकि इन्दिरा नगर कैम्पस की शिक्षिका सुश्री अनुपम सिंह ने इतिहास एवं नागरिक शाष्त्र विषय पर छात्रों का मार्गदर्शन किया। इससे पहले, समारोह का शुभारम्भ सी.एम.एस. क्वालिटी अश्योरेन्स एवं इनोवेशन डिपार्टमेन्ट की हेड सुश्री सुस्मिता बासु के स्वागत भाषण से हुआ। इस अवसर पर सी.एम.एस. छात्रों ने स्कूल प्रार्थना, सर्व-धर्म प्रार्थना, विश्व एकता प्रार्थना, गीत ‘जैसा तुम सोचोगे, वैसा बन जाओगे’ आदि के सुमधुर प्रस्तुतिकरण से सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। 

सी.एम.एस. प्रेसीडेन्ट प्रो. गीता किंगडन ने अपने संबोधन में छात्रों की हौसलाअफजाई करते हुए कहा कि शिक्षकों व अभिभावकों का आह्वान किया कि बच्चों के उत्साहवर्धन में कोई कसर ने छोड़ें। सी.एम.एस. संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गाँधी एवं डा. (श्रीमती) भारती गाँधी ने छात्रों को आशीर्वाद देते हुए कहा कि सम्मान समारोह का उद्देश्य यही है कि अन्य छात्र भी इससे प्रेरणा ले सके एवं अपने कार्यों से अपने माता-पिता व शिक्षकों का नाम रोशन करें। 
 

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top