अर्थव्यवस्था

नोटबंदी और GST से डगमगाई भारत की अर्थव्यवस्था : रघुराम राजन

नोटबंदी और GST से डगमगाई भारत की अर्थव्यवस्था : रघुराम राजन

नोटबंदी और GST से डगमगाई भारत की अर्थव्यवस्था : रघुराम राजन

Photo

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने कहा है कि देश में नोटबंदी और GST लागू करने के फैसले से भारत की आर्थिक विकास दर में गिरावट आई है। राजन ने कहा कि मौजूदा 7 प्रतिशत विकास दर देश के जरूरतों के लिए पर्याप्त नहीं है। ज्ञात हो 8 नवंबर को नोटबंदी के 2 साल पूरे हुए हैं। ऐसे में सरकार को काफी आलोचनाएं झेलनी पड़ रही है।

नोटबंदी और GST के पहले विकास दर में थी तेजी - 

बर्कले में यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफॉर्निया में शुक्रवार को लोगों को संबोधित करते हुए राजन ने कहा कि नोटबंदी और GST लागू होने से पहले 2012 से 2016 तक भारत की विकास दर की रफ्तार काफी तेज रही थी। 

हमें रोजगार को बढ़ावा देने की जरूरत है -

आजादी के बाद देश की अर्थव्यवस्था के लिए रेट ऑफ ग्रोथ का इस्तेमाल किया जाता था जिसका मतलब बेहद कमजोर ग्रोथ रेट से था। रघुराम राजन ने कहा कि सच तो यही है कि 7 फीसदी की वृद्धि दर उन लोगों के लिए पर्याप्त नहीं जो श्रम बाजार में आ रहे हैं और हमें उन्हें रोजगार देने की जरूरत है। इसलिए हमें आर्थिक विकास दर की जरूरत है और इस स्तर से हमें संतुष्ट नहीं होना चाहिए।

विकास दर में गिरावट के पीछे नोटबंदी और GST कारण -

रघुराम राजन ने कहा कि साल 2017 में क्या था जब पूरी दुनिया ग्रोथ पर थी लेकिन भारत के विकास दर में गिरावट देखने को मिली थी। इसके पीछे मुख्य वजह नोटबंदी और GST ही था। जो कि देश की अर्थव्यस्था को जबरदस्त आघात किया था। और अब जब भारत विकास दर पटरी पर वापस लौटी तो तेल की किमतों ने नई मुसिबत खड़ी कर दी। राजन ने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए चीजे थोड़ी मुश्किल होने जा रही है।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top