हक़ीक़त

अब सरकार नाबालिग से दुष्कर्म करने वाले को देगी मौत की सजा,जल्द होगा नया कानून लागू

अब सरकार नाबालिग से दुष्कर्म करने वाले को देगी मौत की सजा,जल्द होगा नया कानून लागू

अब सरकार नाबालिग से दुष्कर्म करने वाले को देगी मौत की सजा,जल्द होगा नया कानून लागू

Photo

कठुआ गैंगरेप, हत्याकांड मामले से पूरा देश मासूम बच्ची के साथ हुई रेप हत्या को लेकर सड़कों पर उतर आये है. बता दें कि 8 साल की मासूस से गैंगरेप और हत्या से देशभर में जबर्दस्त आक्रोश है। इस घटना से सरकार भी सकते में आ गयी है। हालात को देखते हुए अब सरकार नाबालिग से दुष्कर्म का कानून बदलने की तैयारी में है I

न्यूज़ रिपोर्ट्स के मुताबिक मोदी जी नया कानून ला रहे है  जिस में नाबालिग बच्चियों से रेप के मामले में कम से कम फांसी की सजा का प्रावधान होगा ताकि फिर किसी और बच्ची के साथ आसिफा जैसी हैवानियत न हो। 

इस कानून में 12 साल से कम उम्र की बच्ची या बच्चे से हैवानियत करने वाले को फांसी की सजा दी जा सकती है। कैबिनेट में जल्द की प्रस्ताव लाया जाएगा। अ अभी तक पॉस्‍को एक्ट के सेक्शन 3,4 और 6 के मुताबिक़ रेप पर 10 से लेकर उम्र कैद की सज़ा का प्रावधान है।

कठुआ रेप केस के बाद देशभर में आरोपियों को कठोर सजा देने के मांग को लेकर हो रहे प्रदर्शन के बीच महिला और बाल विकास मंत्री का कहना है कि सरकार में संशोधन करने के लिए जल्द कैबिनेट की बैठक में प्रस्‍ताव लाएगी।

वहीं मेनका गांधी ने वीडियो मैसेज में कहा है कि वह इस वारदात से बहुत दुखी हैं। उन्‍होंने कहा कि उनका मंत्रालय सोमवार को कैबिनेट नोट में पॉक्‍सो एक्‍ट में संशोधन की मांग करेंगे और पॉक्सो ऐक्ट में संशोधन करने का प्रस्‍ताव लाएगी।

इस संशोधन के मुताबिक 12 साल से कम उम्र की बच्ची से रेप के मामले में मौत की सजा का प्रावधान रखा जाएगा। उन्‍होंने कहा है कि वह कथुआ और अन्‍य बलात्‍कार की घटना से बहुत दुखी हैं जो बच्‍चों के साथ हो रही हैं।

आठ साल की बच्‍ची का 10 जनवरी को उसके गांव के पास से अगवा कर लिया गया था। उसे नशे में रखा गया और कई दिन तक उसके साथ कई लोगों ने गैंगरेप किया, जिनमें पुलिस अधिकारी और एक किशोर भी शामिल था। आखिरकार उसे मार दिया गया।

चार्जशीट के मुताबिक, उसका सिर पत्थर से कुचले जाने से ठीक पहले पुलिस अधिकारियों में से एक ने हत्यारे से कुछ देर रुकने के लिए कहा, ताकि वह एक बार और बच्ची के साथ रेप कर सके। बलात्कारियों में से एक को उत्तर प्रदेश के मेरठ से खासतौर से बुलाया गया था, ताकि वह अपनी हवस पूरी कर सके।

बता दें कि जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने इस मामले में कुछ दिन पूर्व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी। मुफ्ती ने प्रधानमंत्री के साथ मुलाकात में इस बात पर चिंता जताई कि गैंगरेप की इस घटना ने सबको झकझोर दिया है, इतना ही नहीं सुरक्षा के लिहाज से भी यह बेहद चिंतित करने वाला मामला है इसलिए इसके खिलाफ सख्त और कड़ा कानून बनना चाहिए। जिससे कोई मासूम बच्चियों के सीथ ऐसी बर्बरता करने का बारे में सोच कर भी कांप उठा। 

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top