उत्तर प्रदेश

एक बार फिर हिन्दुओ ने दिया भाईचारे की मिसाल, अयोध्या में मंदिर के भीतर इफ्तार पार्टी का हुआ आयोजन

एक बार फिर हिन्दुओ ने दिया भाईचारे की मिसाल, अयोध्या में मंदिर के भीतर इफ्तार पार्टी का हुआ आयोजन

एक बार फिर हिन्दुओ ने दिया भाईचारे की मिसाल, अयोध्या में मंदिर के भीतर इफ्तार पार्टी का हुआ आयोजन

Photo

लखनऊ.  हमेशा ही विवादों में जुड़ा रहने वाला शहर अयोध्या इस बार अपनी गंगा-जमुनी तहजीब के लिए चर्चा में है। रमजान के पाक माह में एक बार फिर से हिंदू-मुस्लिम एकता की मिसाल देखने को मिली है। यहां धार्मिक सौहार्द को बरकरार रखने के लिए रमजान के पाक माह में सरयू कुंज स्थित 500 साल पुराने मंदिर में रोज इफ्तार का आयोजन किया गया है। यह मंदिर रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद के पास स्थित है, जहां रोजा इफ्तार का आयोजन किया गया।

इफ्तार के दौरान केवल आम लोगों को ही यहां बुलाया गया था, किसी भी राजनीतिक व्यक्ति या वीआईपी को यहां न्योता नहीं दिया गया था। सूरज कुंज के महंत जुगल किशोर शरण शास्त्री ने बताया कि इस आयोजन के जरिए हम लोगों को यह संदेश देना चाहते हैं कि इसके पीछे हमारी कोई राजनीतिक मंशा नही हैं, बल्कि हम दुनिया को शांति का संदेश देना चाहते हैं। आपको बता दें मंदिर के भीतर राम, सीता और ब्रम्हा की मूर्ति है। इफ्तार के दौरान साधुओं ने अयोध्या के प्रसिद्ध हनुमानगढ़ी के लड्डुओं का वितरण किया।

आपको बता दे कि इफ्तार से पहले मगरिब की नमाज भी मंदिर परिसर में कराईी गई। इससे पहले मंदिर के भीबतर सांप्रदायिकता के खिलाफ एक सेमिनार का भी आयोजन भी किया गया था। सेमिनार में कॉलेज के तमाम छात्रों और शिक्षकों ने हिस्सा लिया था। इस कार्यक्रम में लोगों ने शपथ ली थी कि वह सांप्रदायिक तनाव को कम करने के लिए काम करेंगे। मंदिर के भीतर रोजा इफ्तार के बारे में एक पंडित ने बताया कि हमारा मानना है कि दोनों समुदायों के बीच दूरियां कम होनी चाहिए। रोजा के जरिए दोनों समुदायों को करीब लाने का अच्छा मौका है।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top