अंतर्राष्ट्रीय

पाकिस्तान को 10-12 बिलियन अमेरिकी डॉलरी की जरुरत, इमरान ने अपने मित्र देशों से मांगी मदद

पाकिस्तान को 10-12 बिलियन अमेरिकी डॉलरी की जरुरत, इमरान ने अपने मित्र देशों से मांगी मदद

पाकिस्तान को 10-12 बिलियन अमेरिकी डॉलरी की जरुरत, इमरान ने अपने मित्र देशों से मांगी मदद

Photo

इस्लामाबाद। इंटरनेशनल मॉनिटरी फंड (IMF) से पॉजिटिव रिस्पॉन्स नहीं मिलने के बाद पाकिस्तान अब लोन के लिए अपने मित्र देशों से मदद की मांग की है। आर्थिक तंगी से पाकिस्तान को निकालने की जद्दोजहद कर रहे इमरान खान ने कहा है कि उनके सहयोगी देशों ने मदद का भरोसा दिलाया है। मीडिया से बातचीत करते हुए इमरान खान ने कहा कि देश की गिरती विदेश मुद्रा और कैश क्रंच से बाहर निकलने के लिए मित्र देशों के साथ संपर्क में हैं। इससे पहले IMF ने पाकिस्तान से कहा था कि वे पहले अपने देश पर चढ़े विदेशी कर्ज को लेकर पारदर्शिता पेश करें, उसके बाद ही लोन देने पर विचार किया जा सकेगा है।

इमरान सऊदी या चीन से ले सकते हैं मदद -

इमरान खान ने अपने मित्र और सहयोगी से मदद का भरोसा बिना किसी भी देश का नाम लेते हुए पाकिस्तानी मीडिया से बताया कि वे सऊदी या चीन से मदद ले सकते हैं। इमरान खान ने कहा, "उन्होंने हमारी मदद करने के लिए एक सकारात्मक जवाब भी दिया है। मुझे आशा है कि अब आर्थिक जरुरतों के लिए IMF से मदद नहीं मांगनी पड़ेगी।" पिछले सप्ताह पाकिस्तान के वित्त मंत्री ने बाली में IMF चीफ क्रिस्टिना लेगार्ड से मुलाकात की थी।

IMF चाहता है कि पाकिस्तान पहले अपने ऊपर चढ़े कर्ज का खुलासा करे -
 
IMF ने फिलहाल पाकिस्तान की आर्थिक मदद करने के लिए कुछ नहीं कहा है और अगले महीने IMF की एक टीम इस्लामाबाद का दौरा कर सकती है। पाकिस्तान ने IMF से बेलाउट पैकेज की मांग की थी, लेकिन लेगार्ड ने इमरान सरकार से पहले उनके देश पर चढ़े कर्ज और चीन के निवेश से बढ़ रहे बोझ के बारे में रिपोर्ट पेश करने की शर्त रखी थी। IMF चाहता है कि पाकिस्तान उस कर्ज का भी खुलासा करें, जो चीन की वजह से उनके देश में सीपेक (चीन-पाकिस्तान इकनॉमिक कॉरिडोर) प्रोजेक्ट से चढ़ रहा है। अमेरिका ने भी पाकिस्तान में बढ़ते चीनी निवेश पर चिंता व्यक्त करते हुए था कि इससे पाकिस्तान को उबरने में काफी वक्त लग जाएगा।

इमरान सरकार को 10-12 बिलियन अमेरिकी डॉलरी की जरुरत -

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के सामने सबसे बड़ी समस्या अपने देश की आर्थिक व्यवस्था को पटरी पर लाना है। पाकिस्तान को आर्थिक संकट में धकेलने के लिए पिछली सरकारों को जिम्मेदार ठहराते हुए इमरान खान ने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने लिए कम से कम 10-12 बिलियन अमेरिकी डॉलरी की जरुरत है। देश को आर्थिक तंगी से निकालने में जुटे इमरान अभी तक सरकार की कई लग्जरी संपत्ति को निलाम भी कर चुके है।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top