अंतर्राष्ट्रीय

देश गुजरात चुनाव में व्यस्त था, तभी लौटा डोकलाम का जिन्न

देश गुजरात चुनाव में व्यस्त था, तभी लौटा डोकलाम का जिन्न

देश गुजरात चुनाव में व्यस्त था, तभी लौटा डोकलाम का जिन्न

Photo

बीजिंग। देश जब गुजरात चुनाव में व्यस्त था, तभी चीन सेना ने एक बार इस विवादास्पद जमीन पर डेरा डालने की हिमाकत की है। टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार, डोकलाम क्षेत्र में 1600-1800 चीनी सैनिक फिर आ जमे हैं। वे यहां हेलिपैड्स, रोड और शिविरों को बनाने का काम कर रहे हैं। इससे स्पष्ट होता है कि चीन की सेना इस क्षेत्र में अपना स्थाई रूप से जगह बनाने की कोशिश में लगी है। वहीं, हाल ही में दिल्ली में आरआईसी की मिटिंग में भी चीन के विदेश मंत्री ने कहा था कि डोकलाम मे भारतीय सेना ने अवैध कब्जा करा है। हालांकि, नई दिल्ली में बैठी सरकार के अनुसार, वो चीन के हर गतिविधियों पर ध्यान दे रही है, लेकिन फिर से पैदा हुआ डोकलाम का जिन्न से लेकर मालदीव के साथ बीजिंग की डील भारत के लिए किसी चिंता से कम नहीं है।

नेपाल में पहली बार धमाकेदार ढंग से वामपंथी गठबंधन की सरकार बनी है और केपी ओली एक बार फिर सत्ता संभालेंगे। केपी ओली का नेपाल का पीएम बनना भारत के लिए चिंता का विषय है, क्योंकि ओली का रवैया हमेशा से ही नई दिल्ली के खिलाफ रहा है और चीन के नजदीक। ओली पहले ही संकेत दे चुके हैं कि वे आते ही रेल लिंक से चीन को जोड़ा जाएगा। वहीं, 1950 में बनी भारत के साथ विदेश नीति को भी बदला जाएगा। नेपाल में केपी ओली की सरकार बनने से चीन और काठमांडू की नजदिकियां बढ़ेगी।

पिछले सप्ताह चीन और मालदीव के बीच एक एतिहासिक समझौता हुआ है। मालदीव और चीन के साथ मुक्त व्यापार समौझाता (FTA) हुआ है, जो भारत के लिए किसी झटके से कम नहीं है। मालदीव यह समझौता भारत के साथ करने वाला था, लेकिन अब यह महत्वपूर्ण करार चीन के साथ हो चुका है।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top