राष्ट्रीय

हमारे जवानों की हिफाजत के लिए,आपस में सुलह करो, बातचीत करो, दोस्ती करो: महबूबा मुफ्ती

हमारे जवानों की हिफाजत के लिए,आपस में सुलह करो, बातचीत करो, दोस्ती करो: महबूबा मुफ्ती

हमारे जवानों की हिफाजत के लिए,आपस में सुलह करो, बातचीत करो, दोस्ती करो: महबूबा मुफ्ती

Photo

जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने भारत और पाकिस्तान के बीच संबंधों को सुधारने की वकालत की हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पाकिस्तान से अपील करते हुए कहा, 'सरहद पार पाकिस्तान को भी मैं गुजारिश करती हूं, अपने मुल्क के वजीर-ए-आजम को भी गुजारिश करती हूं, जम्मू कश्मीर के लोगों को इस दलदल से निकालने के लिए, हमारे जवानों की हिफाजत के लिए, आपस में सुलह करो, बातचीत करो, दोस्ती करो।'

महबूबा के बयान से एक दिन पहले हुआ आंतकी हमला
आपको बता दे कि महबूबा मुफ्ती का यह बयान ऐसे समय में आया है जब एक दिन पहले ही बारामुला जिले के सोपोर में चार पुलिसकर्मी आतंकियों द्वारा किए गए एक आईडी विस्फोट में शहीद हो गए। इस घटना में 2 नागरिक भी गंभीर रूप से घायल हुए हैं। इससे पहले आतंकवादियों ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के ट्रेनिंग कैंप पर रविवार की सुबह (31 दिसंबर 2017) करीब दो बजे हमला कर दिया था।

पी चिंदबरम ने मोदी सरकार पर साधा निशाना इससे पहले यूपीए कार्यकाल में गृह मंत्री रहे पी चिंदबरम ने रविवार को कश्मीर में हो रहे आंतकी घटनाओं के मोदी सरकार पर निशाना साधा। चिदंबरम ने एक ट्वीट में जम्मू और कश्मीर में साल 2014 से लेकर अब तक हुए आतंकी घटनाओं का एक आकड़ा भी दिया है। जिसके अनुसार साल 2014 में 28 नागरिक, 110 आतंकी मारे गए और सुरक्षा बलों के 47 जवान शहीद हुए। साल 2015 में 17 नागरिक, 108 आतंकी मारे गए और सुरक्षा बलों के 108 जवान शहीद हुए। साल 2016 में 15 नागरिक , 150 आतंकी मारे गए और सुरक्षा बलों के 82 जवान शहीद हुए। वहीं साल 2017 में 40 नागरिक, 206 आतंकी मारे गए और सुरक्षाबलों के 75 जवान शहीद हुए। ये आंकड़े 14 दिसबंर 2017 तक के हैं।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top