मुद्दा

#MeToo के लपेटे में आए विनोद दुआ, फिल्मकार निष्ठा जैन ने लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

#MeToo के लपेटे में आए विनोद दुआ, फिल्मकार निष्ठा जैन ने लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

#MeToo के लपेटे में आए विनोद दुआ, फिल्मकार निष्ठा जैन ने लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

Photo

#MeToo की आंधी आज अपने जोर शोर पर है, #MeToo में यौन उत्पीड़न को लेकर देश में रोज नए खुलासे हो रहे हैं, जिसमें राजनीति, बॉलीवुड और मीडिया जगत में काम कर रही कई बड़ी हस्तियां लपेटे में आ रही है। #MeToo की लिस्ट में आज नया नाम पत्रकार विनोद दुआ का भी जुड़ गया है, विनोद दुआ पर फिल्मकार निष्ठा जैन ने यौन और मानसिक उत्पीड़न का आरोप लगाया है। निष्ठा ने अपने फेसबुक पर एक लंबा पोस्ट लिखकर कहा है कि मुझे देखते ही विनोद दुआ ने एक बार घटिया और सेक्सुअल जोक मारा था। निष्ठा ने लिखा को विनोद दुआ आज यौन उत्पीड़न मामलों को समझाने के लिए कई प्रोग्राम करते हैं, लेकिन उन्हें पहले अपने अतीत में भी झांक कर देखना चाहिए।

उन्होंने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा, "जामिया से पासआउट होने के बाद मैं एक प्रसिद्ध टीवी पर्सनालिटी के पास जॉब इंटरव्यू के लिए गई, उस वक्त वे जनवाणी नाम से फेमस प्रोग्राम किया करते थे। उस वक्त वे एक राजनीतिक व्यंग्य से जुड़े एक प्रोग्राम शुरू कर रहे थे और मुझे उसमें रूचि थी। मैं वहां सही से बैठी भी नहीं थी कि उन्होंने बिल्कुल धीमी आवाज में एक अश्लील जोक मारा। मुझे वह जोक तो याद नहीं है, लेकिन उसमें हसने जैसा कुछ नहीं था।"

निष्ठा ने आगे लिखती है कि जब जॉब इंटरव्यू में मैंने मेरी सैलरी एक्सपेक्टेशन 5000 रुपये बताई तो विनोद दुआ ने कथित तौर पर मुझे कहा कि तुम्हारी औकात क्या है? निष्ठा आगे लिखती है, 'मुझे नहीं मालुम कि उस वक्त मुझ पर क्या गुजरी होगी। मुझे जीवन में यौन उत्पीड़न का सामना करना पड़ा था, लेकिन इस तरह के अपमान का एक नया अनुभव था। जब मैं घर पहुंची तो बहुत रोई। उस दिन मेरा जन्मदिन बर्बाद हो चुका था। मैंने इसके बारे में अपने भाई और दोस्तों को बताया था। इसके तुरंत बाद, मुझे न्यूजट्रैक में एक वीडियो संपादक के रूप में नौकरी मिल गई थी।'

एक अन्य घटना का जिक्र करते हुए निष्ठा ने कहा कि एक रात को जब वह पार्किंग में थी, तब विनोद दुआ भी वहीं थे। उन्होंने कहा कि वह मुझसे बात करना चाहते हैं। उन्होंने मुझे उनकी ब्लैक कार में आने के लिए कहा, हालांकि मुझे याद नहीं है कि कौनसी कार थी। मुझे लगा कि वह मुझसे अपने व्यवहार के लिए माफी मांगना चाहते हैं। जब मैं कार में बैठी तो उन्होंने मेरे चेहरे को घूरना शुरू किया। मैं कैसे भी करके कार से बाहर निकली और ऑफिस की कार में बैठकर निकल गई।' निष्ठा ने लिखा उसके बाद भी उन्होंने विनोद दुआ को कई बार रात में पार्किंग में देखा था। फिल्मकार निष्ठा जैन ने 1989 में अपने साथ हुई इस घटना का जिक्र किया है।

बता दें कि पत्रकार विनोद दुआ फिलहाल एक वेब न्यूज पोर्टल द वायर से जुड़े हुए हैं और वहां वे 'जन गण मन' नाम से एक प्रोग्राम भी करते हैं। यूट्यूब पर उनकी अच्छी खासी फैन फोल्लोवेर भी है। 

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top