बहस

#गुजरात, हनुमानजी को सांता क्लॉज जैसे कपड़े पहनाने पर हिन्दू संगठन ने जताया विरोध

#गुजरात, हनुमानजी को सांता क्लॉज जैसे कपड़े पहनाने पर हिन्दू संगठन ने जताया विरोध

#गुजरात, हनुमानजी को सांता क्लॉज जैसे कपड़े पहनाने पर हिन्दू संगठन ने जताया विरोध

Photo

पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के दौरान हनुमानजी की जाति पर विवाद शुरू हुआ था। बता दें कि 27 नवंबर को राजस्थान में योगी आदित्यनाथ ने हनुमानजी को दलित बताया था। इसके अगले ही दिन केंद्रीय मंत्री सत्यपाल चौधरी ने हनुमानजी को आर्य बताया। इसके बाद हनुमानजी के जाट होने के तर्क दिए गए। कुछ दिन पहले भाजपा एमएलसी बुक्कल नवाब ने कहा था कि हनुमानजी मुसलमान थे। 

गुजरात में हनुमानजी को सांता क्लॉज जैसे कपड़े पहनाने से विवाद शुरू हो गया। यहां सारंगपुर मंदिर में दिन में दो बार भगवान के श्रीविग्रह के वस्त्र बदले जाने की परंपरा है। रविवार को भगवान को सांता क्लॉज जैसे कपड़े पहनाए गए। मंदिर के प्रमुख पुजारी विवेक सागर ने बताया कि कपड़े अमेरिका में रहने वाले श्रद्धालु धमर भाई ने भेजे हैं। 

विवेक सागर ने बताया, "इस पर विवाद नहीं होना चाहिए. कपड़े गर्म और मखमली हैं, जिसे सर्दियों में भगवान को अर्पित किया गया है। अभी धर्नुमास चल रहा हैं। परंपरा के मुताबिक, भगवान को हर दिन अलग-अलग तरह के कपड़े पहनाए जाते हैं।"

मंदिर में हनुमानजी को लाल रंग की पोशाक पहनाई गई है। इसमें टोपी है।ड्रेस के किनारे पर सफेद बॉर्डर है। लोगों का दावा है कि इस तरह के कपड़े सांता क्लॉज के होते हैं। हिंदू संगठनों ने इसका विरोध किया और हनुमानजी को अर्पित किए गए कपड़े बदलने की मांग की। 

बता दें कि मुंबई के किसी भक्त द्वारा यह कपडे हनुमान के लिए खास तौर पर लाये गए थे। जिसे पुजारी द्वारा हनुमानजी को पहना दिया गया। बात आग की तरह फैली और हनुमान जी के कपडे पर स्थानीय हिन्दू संघठनो द्वारा जमकर विरोध किया गया। इस विरोध को देखकर कपडे बदल लिए गए. इस विवाद के खड़े होने के बाद मंदिर के पुजारी ने अपनी सफाई देते हुए कहा की इस मामले पर विवाद खड़ा करना उचित नहीं है। कपड़े गर्म और मखमली हैं, जिसे सर्दियों में भगवान को अर्पित किया गया है। अभी धर्नुमास चल रहा हैं. परंपरा के मुताबिक, भगवान को हर दिन अलग-अलग तरह के कपड़े पहनाए जाते हैं। 

पुजारी ने कपड़ो के बारे में सफाई देते हुए कहा की मंदिर में हनुमानजी को लाल रंग की पोशाक पहनाई गई है. इसमें टोपी है। ड्रेस के किनारे पर सफेद बॉर्डर है.ये कहीं से सांता क्लॉज का पहनावा नहीं है। वहीं लोगों का दावा है कि इस तरह के कपड़े सांता क्लॉज के होते हैं। हिंदू संगठनों ने इसका विरोध किया और हनुमानजी को अर्पित किए गए कपड़े बदलने की मांग की। 

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top