बहस

बाबरी मस्जिद की ज़मीन तोहफे में नहीं देंगे : मुस्लिम लॉ बोर्ड

बाबरी मस्जिद की ज़मीन तोहफे में नहीं देंगे : मुस्लिम लॉ बोर्ड

बाबरी मस्जिद की ज़मीन तोहफे में नहीं देंगे : मुस्लिम लॉ बोर्ड

Photo

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने कहा है कि बाबरी मस्जिद के लिए वो कोर्ट में लड़ रहे हैं और लड़ते रहेंगे। कोर्ट मे लड़कर मस्जिद के लिए जमीन हासिल करने की कोशिशें करते रहेंगे, ना कि कोर्ट के बाहर समझौता कर जमीन को दूसरे पक्ष को तोहफे में दे देंगे। एक बार मस्जिद बन गई तो हमेशा रहेगी। मुझे देश के सुप्रीम कोर्ट पर भरोसा है, वो कोर्ट में लड़ाई लड़ रहे हैं और जो भी फैसला होगा, उसे मानेंगे। 

इस विवाद को सुलझाने की कोशिशें कोर्ट के बाहर भी होती रही हैं, इससे कोई हल नहीं निकल पाया है। अयोध्या रामलला के मुख्य पुजारी आचार्य सतेन्द्र दास ने कहा था कि अयोध्या मसले का हल होने से आपसी विवाद खत्म होगा। वहीं बाबरी मस्जिद के पैरोकार इकबाल अंसारी ने कहा है कि अब सुलह की संभावना अब नहीं दिखती है और कोर्ट से ही मामले का हल निकलेगा।

14 मार्च को है सुनवाई 
अयोध्या में राम जन्मभूमि बाबरी की जमीन के विवाद पर 9 फरवरी को सुनवाई थी। सुनवाई से पहले सुप्रीम कोर्ट में सभी पक्षों ने दस्तावेज जमा किए। लेकिन सुनवाई नहीं हो पाई और अगली सुनवाई के लिए 14 मार्च की तारीख दे दिया गया। चीफ जस्टिस न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली विशेष पीठ इस मामले पर सुनवाई कर रही है। तीन जजों की बेंच ने साफ कर दिया कि अदालत में कोई भावनात्मक दलीलें न रखी जाएं। कोर्ट ने साफ किया कि ये जमीन के विवाद का मामला है और कोर्ट इसे जमीन विवाद के तौर पर ही देखेगा।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top