अंतर्राष्ट्रीय

भारत और रूस के बीच हुए 8 समझौते पर हस्ताक्षर, रुसी राष्ट्रपति पुतिन ने कही ये बातें

भारत और रूस के बीच हुए 8 समझौते पर हस्ताक्षर, रुसी राष्ट्रपति पुतिन ने कही ये बातें

भारत और रूस के बीच हुए 8 समझौते पर हस्ताक्षर, रुसी राष्ट्रपति पुतिन ने कही ये बातें

Photo

हैदराबाद हाउस में आज PM मोदी और रुसी राष्ट्रपति  पुतिन के बीच महत्वपूर्ण द्विपक्षीय बैठक हुयी । बता दें बैठक शुरु होने से पहले दोनों नेताओं ने हाथ हिलाकर अभिवादन स्वीकार किया और तस्वीरे खिंचवाई। इस बीच दोनों नेता गले भी मिले।

- भारत और रूस के बीच बहुप्रतिक्षित S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम डील पर हस्ताक्षर हो गए हैं।

- इस डील के तहत भारत रूस से एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम के 5 सेट खरीदेगा।

- रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की द्विपक्षीय वार्ता के बाद नई दिल्ली में इस डील पर हस्ताक्षर किए गए।

- भारत और रूस के बीच कुल 8 समझौते हुए हैं।

पीएम मोदी का बयान -

भारत रुस के रिश्ते को मजबूत करती सांझा प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हम एक ऐसे देश के राष्ट्रपति के रूप में आपका स्वागत कर रहे हैं जिसके साथ हमारे अद्भुत संबंध हैं। पुतिन द्वारा सोची आयोजित सम्मेलन से दोनों देशों के बीच रिश्ते मजबूत हुए। पीएम मोदी ने कहा कि रूस के साथ अपने संबंधों को भारत सर्वोच्च प्राथमिकता देता है, तेजी से बदलती दुनिया में हमारे संबंध काफी अहम हैं। वैश्विक मामलों पर हमारे सहयोग को नए मकसद मिले हैं। पीएम बोले कि दोनों देशों के बीच नेचरल रिसोर्स, HRD, सौर ऊर्जा, टेक्नॉलोजी, सागर से लेकर अंतरिक्ष तक आज कई अहम समझौते हुए हैं। उन्होंने कहा कि भारत की विकास यात्रा में रूस हमेशा साथ रहा है, हमारा अगला लक्ष्य भारत के मिशन गगनयान को अंतरिक्ष में भेजना है इसमें रूस हमारी पूरी सहायता करेगा। पीएम ने कहा कि भारत और रूस तेजी से बदलते हुए विश्व में कई अहम रोल निभा सकते हैं। आतंकवाद के विरूद्ध संघर्ष, जलवायु परिवर्तन, BRICS, आसियान जैसे संगठनों में दोनों देशों की अहम भूमिका है। प्रधानमंत्री ने कहा कि दोनों देशों की कोशिश है कि हम सीधे दोनों देशों के लोगों को साथ में लाएं।

व्लादिमीर पुतिन का बयान -

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने साझा प्रेस वार्ता में कहा कि आज दोनों देशों के बीच आपसी और वैश्विक हितों को ध्यान में रखते हुए बातचीत हुई। उन्होंने कहा कि दोनों ही देश सुरक्षा-रक्षा-व्यापार के क्षेत्र में मिलकर काम करेंगे। पुतिन ने ऐलान किया कि दोनों देशों ने लक्ष्य रखा है कि 2025 तक दोनों देशों के बीच में 30 बिलियन डॉलर तक व्यापारिक संबंध होंगे। राष्ट्रपति पुतिन ने ब्लाडिवोस्टक फोरम में बतौर मुख्य अतिथि शामिल होने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को न्योता दिया है। उन्होंने कहा कि गैस उत्पादन में भारत को उचित कीमत पर सुविधा उपलब्ध कराने के लिए रूस प्रतिबद्ध है। इसके अलावा इंफ्रास्ट्रक्चर के क्षेत्र में भारत में रूस की कंपनियां काम करने को तैयार हैं। पुतिन ने ऐलान किया कि आतंकवाद के खिलाफ भारत की चिंताओं से रूस सहमत है। आतंकवाद विरोधी अभ्यास में दोनों देश एक दूसरे का सहयोग करेंगे। भारत के छात्रों के लिए रूस स्कॉलरशिप देगा जबकि रूसी सैलानियों की संख्या में बढ़ोतरी दोनों देशों के रिश्तों को मजबूत करेगी। इसके अलावा कई अन्य महत्वपूर्ण क्षेत्रों में भी भारत और रूस ने करार किए हैं। भारत और रूस के बीच एस-400 के अलावा अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में भी समझौता हुआ। एक इंडियन मॉनिटरिंग स्टेशन साइबेरिया के पास रूस के नोवोसिबिर्क शहर में स्थापित किया जाएगा।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top