होम इंसानियत की मिसाल: मुस्लिम युवक के सीने में धड़क रहा है हिंदू का दिल

देश

इंसानियत की मिसाल: मुस्लिम युवक के सीने में धड़क रहा है हिंदू का दिल

गौरक्षा के नाम पर इस दिनों देश में हिंदू-मुस्लिम के बीच विवाद के कई मामले सामने आए, लेकिन आज जो कहानी हम आपको बताने जा रहे हैं उसे पढ़कर उन तमाम लोगों के मुंह बंद हो जाएंगे जो धर्म के नाम पर दो समुदायों के बीच विवादों को जन्म देते हैं।

इंसानियत की मिसाल: मुस्लिम युवक के सीने में धड़क रहा है हिंदू का दिल

नई दिल्ली। गौरक्षा के नाम पर इस दिनों देश में हिंदू-मुस्लिम के बीच विवाद के कई मामले सामने आए, लेकिन आज जो कहानी हम आपको बताने जा रहे हैं उसे पढ़कर उन तमाम लोगों के मुंह बंद हो जाएंगे जो धर्म के नाम पर दो समुदायों के बीच विवादों को जन्म देते हैं। गुजरात के सूरत के रहने वाले एक हिंदू परिवार ने जो किया जो किसी के लिए मिसाल से कम नहीं है।एक हिंदू परिवार ने अपने बेटे का दिल एक मुस्लिम युवक को देकर उसे नई जिंदगी दे दी।

सूरत के रहने वाले अमित के परिवार ने अपने ब्रेन डेड बेटे का दिल एक मुस्लिम युवक को दान कर दरियादिली दिखाई। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सूरत के रहने वाले अमित एक भयानक सड़क हादसे का शिकार हो गया। डक्टरों की कोशिशों के बावजूद वो अमित को नहीं बचा सके। ब्रेन डेड होने की वजह से डॉक्टरों ने हाथ खड़े कर दिए, जिसके बाद अमित के परिवारवालों ने उसके शरीर के जीवित हिस्से को दान करने का फैसला किया। परिवारवालों ने अमित का हृदय, किडनी और आंखें दान कर दी।

वहीं 36 साल के सोहेल वोरा को दिल की जरूरत थी। पिछले कई सालों से अपने शरीर में महज 15 प्रतिशत तक धड़क रहे दिल के सहारे जी रहा था, लेकिन अमित के दिल ने उसे नई जिंदगी दे दी। ग्रीन जोन बनाकर अमित के दिल को सूरत से अहमदाबाद पहुंचाया गया, जहां के सिम्स अस्पताल में सोहेल का हर्ट ट्रांसप्लांट किया गया और उसे नई जिंदगी मिल गई। सोहेल के परिवार भी अब काफी खुश हैं। उसके परिवारवालों ने अमित से माता-पिता का धन्यवाद किया है और कहा कि इंसानियत का कोई धर्म नहीं होता है।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

(Last 14 days)

-Advertisement-

Facebook

To Top