दिल्ली

दिल्ली में वायु प्रदूषण से लोग फिर बेहाल

दिल्ली में वायु प्रदूषण से लोग फिर बेहाल

दिल्ली में वायु प्रदूषण से लोग फिर बेहाल

Photo

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में आज पूरे दिन बादल छाए रहे तथा ठंड और वायु प्रदूषण से लोग फिर बेहाल नजर आए। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रक बोर्ड के अनुसार यहां पर पिछले 24 घंटों में वायु की गुणवत्ता में 391 अंकों के साथ भारी गिरावट दर्ज की गई। 13 निगरानी केंद्रों पर दर्ज की गई रिपोर्ट के अनुसार यहां पर वायु में पी.एम. 2.5 तथा पी.एम. 10 की मात्रा अधिक थी। मौैसम विभाग ने बताया कि न्यूनतम तापमान 8.3 डिग्री सैल्सियस दर्ज किया गया जो इस मौसम का सामान्य से एक डिग्री सैल्सियस कम है जबकि अधिकतम तापमान 23 डिग्री सैल्सियस रहने का अनुमान है।

एन.जी.टी. ने ‘आप’ सरकार को लगाई फटकार-

राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एन.जी.टी.) ने शहर में वायु प्रदूषण से निपटने के तरीकों पर एक व्यापक कार्रवाई योजना दाखिल नहीं करने को लेकर आज दिल्ली सरकार को फटकार लगाई। साथ ही खराब वायु गुणवत्ता होने के बावजूद भारत-श्रीलंका क्रिकेट मैच करवाने को लेकर अधिकारियों की भी आलोचना की। एन.जी.टी. अध्यक्ष न्यायमूॢत स्वतंत्र कुमार ने विशेष आदेश के बावजूद रिपोर्ट दाखिल करने में आप सरकार के नाकाम रहने पर एतराज जताया। सुनवाई के दौरान दिल्ली सरकार ने कहा कि उसे कार्रवाई योजना दाखिल करने के लिए और वक्त चाहिए क्योंकि मुख्य सचिव और पर्यावरण सचिव का हाल ही में तबादला हुआ है। अधिकरण ने सरकार को अगले 48 घंटों के अंदर रिपोर्ट दाखिल करने का निर्देश दिया है।

स्मॉग से दृश्यता प्रभावित-

राष्ट्रीय राजधानी में स्मॉग की वजह से कई इलाकों में आज दृश्यता प्रभावित रही। मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि सुबह 8.&0 बजे सफदरजंग ऑब्जर्वेटरी में दृश्यता गिरकर 700 मीटर रह गई जबकि पालम स्टेशन पर यह 900 मीटर दर्ज की गई। उन्होंने कहा कि कोहरे में दृश्यता का स्तर 1000 मीटर से नीचे आने पर इसे खराब माना जाता है। मौसम विभाग के अधिकारी ने दिन में आसमान साफ रहने और कल सुबह धुंध छाए रहने की संभावना जताई है।

दिल्ली सहित 20 शहर अगले साल तक होंगे कचरा मुक्त-

केंद्र सरकार ने शहरों को कचरे की तेजी से बढ़ती समस्या से मुक्त करवाने के लिए कचरा निस्तारण की चरणबद्ध मुहिम शुरू की है। इसके पहले चरण में दिल्ली सहित 20 प्रमुख शहरों को साल 2018 से पहले कचरा मुक्त बनाने का लक्ष्य तय किया गया है। आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय के ‘स्व‘छ भारत अभियान’ के तहत शोध संस्थान विज्ञान एवं पर्यावरण केंद्र (सी.एस.ई.) ने शहरों में कचरे का स्रोत के स्थान पर ही निस्तारण किए जाने की कार्ययोजना पेश की है। केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री डा. हर्षवर्धन 12 दिसम्बर को स्थानीय संगठनों की मदद से चलाए जाने वाले इस अभियान को हरी झंडी दिखाएंगे। सी.एस.ई. की परियोजना अधिकारी वृंदा नागर ने बताया कि आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय ने इस साल 5 जून को शहरी कचरे को उसके स्रोत के स्थान पर ही अलग-अलग करने का देशव्यापी अभियान शुरू किया था। इसके तहत सी.एस.ई. ने 20 महानगरों में अलग-अलग किए गए विभिन्न श्रेणी के कचरे का निस्तारण करने का अभियान स्थानीय निकायों के साथ मिलकर चलाने की पहल की है। उन्होंने बताया कि यह अभियान दिल्ली के अलावा पटना, गया, पूना, इंदौर, गंगटोक और वाराणसी सहित 20 शहरों में एक साथ शुरू होगा।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top