मध्य प्रदेश

मध्‍य प्रदेश चुनाव 2018, अपने ही मंत्रियों की बगावत से मुश्किल में BJP

मध्‍य प्रदेश चुनाव 2018, अपने ही मंत्रियों की बगावत से मुश्किल में BJP

मध्‍य प्रदेश चुनाव 2018, अपने ही मंत्रियों की बगावत से मुश्किल में BJP

Photo

अब शिवराज सिंह चौहान के लिए चौथी बार सत्‍ता में वापसी करना बड़ी चुनौती बनती जा रही है। राज्‍य में लगातार 3 बार विजय पताका फहराने वाली BJP को इस बार अपने ही मंत्रियों की बगावत का सामना भारी पड़ रहा है। पार्टी अभी CM शिवराज के जिले विदिशा में पूर्व मंत्री राघवजी की की बगावत से उबर भी नहीं पाई थी कि पूर्व मंत्री रामकृष्‍ण कुसमारिया मौजूदा वित्‍त मंत्री जयंत मलैया के खिलाफ दमोह से मैदान में उतर गए हैं। पूर्व मंत्री केएल अग्रवाल भी बमौरी से मैदान में कूद गए हैं। राघवजी, कुसमारिया, केएल अग्रवाल से दो कदम आगे निकले पूर्व मंत्री सरताज सिंह, जिन्‍होंने BJP का दामन छोड़कर पहले ही कांग्रेस का हाथ थाम लिया है।

सपॉक्‍स से चुनाव लड़ने की जिद पर है राघवजी - 

raghav ji

विदिशा, दमोह और बमौरी में अपने ही मंत्रियों के बागी होने के बाद BJP के रणनीतिकार बेहद परेशान हैं। पार्टी के पास विकल्‍प भी सीमित हैं। अब पूर्व मंत्री सरताज सिंह को कांग्रेस से वापस तो नहीं लाया जा सकता है। राघवजी विवादित नेता हैं, जिन्‍हें पार्टी ने साइड लाइन कर रखा है। ऐसे में पार्टी का प्रयास है कि कुसमारिया और राघवजी को कैसे भी करके मनाया जाए। राघवजी सपॉक्‍स के टिकट पर चुनाव लड़ने की जिद पर अड़े हैं, वह अपनी बेटी को भी लड़ाना चाहते हैं। दोनों को पार्टी ने टिकट नहीं दिया है। राघवजी विदिशा पर अच्‍छी पकड़ रखते हैं। अगर वह BJP के खिलाफ चुनाव मैदान में उतरे तो काफी वोट काट ले जाएंगे।

कुसमारिया का टिकट कटा तो दमोह से भर दिया पर्चा -

ramkrishna kusmaria

पूर्व मंत्री रामकृष्‍ण कुसमारिया को पूरी उम्‍मीद थी कि पार्टी उन्‍हें टिकट जरूर देगी, लेकिन वक्‍त आने पर उनका नाम कट गया। कुसमारिया ने दमोह के अलावा पथरिया से भी पर्चा भरा है। समस्‍या यह है कि अगर कुसमारिया दमोह सीट पर डटे रहे तो BJP के मौजूदा वित्‍त मंत्री जयंत मलैया की मुश्किल बढ़ जाएगी। 2013 लोकसभा चुनाव में इस सीट पर BJP को ज्‍यादा अंतर से जीत नहीं मिली थी। ऐसे में कुसमारिया की बगावत BJP को भारी पड़ सकती है।

पूर्व CM बाबूलाल गौर ने सबसे पहले बजाया बगावत का बिगुल -

poorv cm babulal gaur

राघवजी, कुसमारिया और केएल अग्रवाल जैसे पूर्व मंत्रियों को बगावत का रास्‍ता दिखाने वाले कोई और नहीं बल्कि BJP के पूर्व CM बाबूलाल गौर हैं। सबसे पहले उन्‍होंने ही पार्टी को तेवर दिखाने शुरू किए थे। वह अपना टिकट काटे जाने पर पुत्रवधु कृष्‍णा गौर को लड़ाना चाहते थे। पार्टी ने पहले तो उनकी बात नहीं मानी, लेकिन दबाव बढ़ता देख बीजेपी ने कृष्‍णा गौर को टिकट दे दिया।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top