उत्तर प्रदेश

उन्नाव रेप केस में आरोपी MLA कुलदीप सिंह सेंगर से छीन ली गयी Y कैटेगरी की सुरक्षा

उन्नाव रेप केस में आरोपी MLA कुलदीप सिंह सेंगर से छीन ली गयी Y कैटेगरी की सुरक्षा

उन्नाव रेप केस में आरोपी MLA कुलदीप सिंह सेंगर से छीन ली गयी Y कैटेगरी की सुरक्षा

Photo

लखनऊ. शुक्रवार को बड़ा फैसला लेते हुए सरकार ने आरोपी भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की वाई श्रेणी की सुरक्षा वापस लेने का आदेश जारी किया। आदेश जारी होते हुए विधायक के घर पर तैनात सुरक्षाकर्मियों को वापस बुला लिया गया। आपको बता दें कि विधायक कुलदीप सिंह सेंगर रेप के आरोप में फिलहाल जेल में बंद हैं। इस केस की जांच सीबीआई कर रही है। इससे पहले गुरुवार को आरोपी भाजपा विधायक ने अपना नार्को टेस्ट करवाए जाने के लिए सीबीआई को हां कह दिया। अब आरोपी विधायक के वकील के लिखित सहमति देने के बाद ये टेस्ट किया जाएगा। हालांकि, अभी सीबीआई के अधिकारियों ने इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी है।

विधायक को 7 दिन की रिमांड

उन्नाव गैंगरेप मामले की जांच सीबीआई कर रही है। सीबीआई ने विधायक को गिरफ्तार करने के बाद कोर्ट में पेश किया था, जहां से 14 अप्रैल को उन्हें सात दिन की पुलिस हिरासत में भेज गया था। इस मामले में विधायक की सहयोगी शशि को भी गिरफ्तार किया गया है। सीबीआई ने चौथे मुकदमे में शशि सिंह के बेटे शुभम सिंह को आरोपी बनाया है। पीड़िता के पिता की पिटाई और उनकी हत्या के केस की भी जांच सीबीआई कर रही है।

विधायक का भाई भी पाया गया आरोपी

उन्नाव रेप केस और पीड़िता के पिता की हत्या में आरोपी भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के भाई अतुल सिंह को सीबीआई की विशेष अदालत ने 17 अप्रैल को 4 दिन के लिए पुलिस हिरासत में भेजा था। अतुल सिंह के अलावा पांच अन्य को भी स्पेशल रिमांड पर भेजा गया है। इनमें बऊवा, विनीत और सोनू सिंह शामिल हैं। अतुल पर पीड़िता के पिता से मारपीट का आरोप है, जिसमें उनकी मौत हो गई थी।

जानिए क्या है वाई कैटगरी की सुरक्षा

आपको बता दे कि भारत मे नेताओं,अधिकारियों या किसी शख्स की सुरक्षा खतरों को देखते हुए उन्हें सरकार और पुलिस द्वारा सुरक्षा मुहैया कराई जाती है। खतरों को देखते हुए ही जेड प्लस, जेड, वाई या एक्स कैटगरी की सुरक्षा देने का फैसला किया जाता है। वाई कैटगरी में 11 सुरक्षाकर्मी तैनात होते हैं जिनमें दो पर्सनल सिक्योरिटी ऑफीसर्स (पीएसओ) शामिल होते हैं। इस तरह की सुरक्षा पाने वाले अधिकांश लोग केंद्र सरकार के मंत्री, राज्यों के मुख्यमंत्री, सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के न्यायाधीश, मशहूर राजनेता और कुछ सीनियर ब्यूरोक्रेट्स होते हैं। भारत में फिलहाल करीब 450 लोगों को इस तरह का सुरक्षा कवच मिला हुआ है। इनमें से 15 को जेड प्लस कैटगरी की सुरक्षा मिली हुई है।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top