होम हमारी संस्कृति ‘उदारचरितानाम, वसुधैव कुटुम्बकम’ की- डा. जगदीश गाँधी,

शिक्षा

हमारी संस्कृति ‘उदारचरितानाम, वसुधैव कुटुम्बकम’ की- डा. जगदीश गाँधी,

हमारी संस्कृति ‘उदारचरितानाम, वसुधैव कुटुम्बकम’ की- डा. जगदीश गाँधी,

हमारी संस्कृति ‘उदारचरितानाम, वसुधैव कुटुम्बकम’ की- डा. जगदीश गाँधी,

लखनऊ, 8 मार्च। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, गोमती नगर (द्वितीय कैम्पस) एवं राजेन्द्र नगर (प्रथम कैम्पस) द्वारा ‘डिवाइन एजुकेशन कान्फ्रेन्स’ का भव्य आयोजन आज सम्पन्न हुआ। जहाँ एक ओर सी.एम.एस. गोमती नगर (द्वितीय कैम्पस) द्वारा विद्यालय के ऑडिटोरियम में आयोजित ‘डिवाइन एजुकेशन कान्फ्रेन्स’ में छात्रों ने ईश्वर भक्ति से परिपूर्ण अपने गीत-संगीत से सभी दर्शकों एवं अभिभावकों को मंत्रमुग्ध कर दिया तो वहीं दूसरी ओर सी.एम.एस. राजेन्द्र नगर (प्रथम कैम्पस) द्वारा सी.एम.एस. कानपुर रोड ऑडिटोरियम में आयोजित ‘डिवाइन एजुकेशन कान्फ्रेन्स’ में छात्रों ने सार्वभौमिक जीवन मूल्यों, विश्वव्यापी चिंतन, विश्व की सेवा के लिए तथा सभी चीजों में उत्कृष्टता विषय पर अपने सारगर्भित विचार प्रकट किये। इन दोनों समारोहों में विभिन्न प्रतियोगिताओं में सर्वोच्चता अर्जित करने वाले व वार्षिक परीक्षाओं में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले छात्रों को पुरष्कृत कर सम्मानित किया।

            सी.एम.एस. गोमती नगर (द्वितीय कैम्पस) द्वारा आयोजित ‘डिवाइन एजुकेशन कान्फ्रेन्स’ में अभिभावकों को सम्बोधित करते हुए सी.एम.एस. संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गाँधी ने कहा कि हमारी संस्कृति ‘उदारचरितानाम, वसुधैव कुटुम्बकम’ की है और इन्हीं विचारों के अनुरूप हमें अपने बच्चों को विकास करना चाहिए और उन्हें वैश्विक दृष्टिकोण प्रदान करना चाहिए। प्रारम्भ से ही बच्चे के कोमल हृदय में दया, करुणा, भाईचारा, सहिष्णुता, प्रेम, एकता, अहिंसा और शान्ति के विचार डालें, तभी ये बच्चे बड़े होकर मानवता का कल्याण कर सकेंगे। डा. गाँधी ने कहा कि दुनिया के कई हिस्से आज जंग का मैदान बने हुए हैं, करोंड़ों-अरबों रूपये खर्च हो रहे हैं और विश्व मानवता पीड़ित है। ऐसे में हमें एक ऐसी भावी पीढ़ी को तैयार करने की जरूरत है जो विश्व मानवता को एकता, शान्ति व खुशहाली की राह पर ले जाए। गोमती नगर कैम्पस की वरिष्ठ प्रधानाचार्या सुश्री मंजीत बत्रा ने कहा कि सी.एम.एस. अपने छात्रों का सर्वांगीण विकास कर ‘टोटल क्वालिटी पर्सन’ बनाने को दृढ़-संकल्पित है और यह कार्य अभिभावकों के सहयोग से ही संभव हैं। इस अवसर पर सी.एम.एस. गोमती नगर (द्वितीय कैम्पस) की प्रधानाचार्या श्रीमती संगीता बनर्जी ने बच्चों की हौसलाअफजाई करने के लिए अभिभावकों के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया।

            सी.एम.एस. राजेन्द्र नगर (प्रथम कैम्पस) द्वारा सी.एम.एस. कानपुर रोड ऑडिटोरियम में आयोजित ‘डिवाइन एजुकेशन कान्फ्रेन्स’ में भी विद्यालय के मेधावी छात्रो को पुरष्कृत कर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर विद्यालय के छात्रों ने एक से बढ़कर एक शिक्षात्मक-साँस्कृतिक कार्यक्रमों की इन्द्रधनुषी छटा बिखेरकर सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। अभिभावकों को सम्बोधित करते हुए सी.एम.एस. राजेन्द्र नगर (प्रथम कैम्पस) की प्रधानाचार्या सुश्री दीपा तिवारी ने कहा कि यदि स्कूल में आध्यात्मिकता, नैतिकता एवं चारित्रिक उत्कृष्टता का वातावरण होगा तो बालकों में भी यही गुण विकसित होंगे और ऐसे ही बालक आगे चलकर सामाजिक व्यवस्था में रचनात्मक बदलाव का कारण बनेंगे।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

(Last 14 days)

-Advertisement-

Facebook

To Top