होम हवाई अड्डे पर एंट्री के लिए पहचान पत्र की बजाय सिर्फ अपना हाथ दिखाए

देश

हवाई अड्डे पर एंट्री के लिए पहचान पत्र की बजाय सिर्फ अपना हाथ दिखाए

हवाई अड्डे पर एंट्री के लिए पहचान पत्र की बजाय सिर्फ अपना हाथ दिखाए

हवाई अड्डे पर एंट्री के लिए  पहचान पत्र की बजाय सिर्फ अपना हाथ दिखाए

नई दिल्ली: जल्द ही हवाई अड्डे पर एंट्री के लिए आपको पहचान पत्र की बजाय सिर्फ अपना हाथ दिखाना पड़ेगा । हैदराबाद और बेंगलुरु हवाई अड्डे पर पायलट परियोजना के तौर पर यह सुविधा शुरू हो गई है। नागरिक उड्डयन मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए टिकट बुक कराते समय ही यात्री को अपना आधार नंबर भी देना होगा। उसके बाद हवाई अड्डे पर प्रवेश के समय सुरक्षाकर्मी को पहचान पत्र और टिकट दिखाकर नाम और चेहरा मिलान करने की जरूरत नहीं पड़ेगी | यात्री को वहां लगी मशीन के सामने अपना हाथ दिखाना पड़ेगा और मशीन उसकी अंगुलियों के निशान का आधार और एयरलाइंस के डाटाबेस से मिलान कर यह सुनिश्चित कर लेगा कि वह वैध टिकट धारक है या नहीं। साथ ही मशीन से जुड़े स्क्रीन पर आधार डाटाबेस में स्थित यात्री की फोटो भी आ जाती है जिससे पास खड़ा सुरक्षाकर्मी चेहरे का मिलान कर लेता है। बेंगलुरु हवाई अड्डा जेट एयरवेज के साथ यह पायलट परियोजना चला रहा है।

अधिकारी ने बताया कि पिछले पखवाड़े में दोनों हवाई अड्डे ने इस संबंध में मंत्रालय में एक प्रस्तुतीकरण दिया था और सभी एयरलाइंस को इससे जुड़ने की सलाह दी गई थी। हैदराबाद हवाई अड्डे पर कुछ इंच की दूरी से हाथ दिखाने की बजाय अंगूठा लगाकर इसी प्रकार की सुविधा का लाभ उठाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि टिकट बुक कराते समय आधार नंबर देना जरूरी तो नहीं है लेकिन एयरलाइंस विभिन्न प्रोत्साहन योजनाओं के जरिये इसे बढ़ावा जरूर दे सकती हैं। इसके लिए वे प्राथमिकता के आधार पर प्रवेश या ज्यादा रिवॉर्ड प्वांइट जैसी घोषणाएं कर सकती हैं। उन्होंने बताया कि दिल्ली हवाई अड्डे ने भी इस दिशा में काम शुरू कर दिया है और जल्द ही यहां भी हाथ दिखाकर प्रवेश की सुविधा पायलट परियोजना के तौर पर शुरू हो जायेगी। बाद में इसका विस्तार देश के सभी हवाई अड्डों तक करने की मंत्रालय की मंशा है जिसमें आधार आधारित प्रवेश और बिना आधार के प्रवेश दोनों की सुविधा होगी। देश भर में इस सुविधा के प्रसार के लिए मंत्रालय ने एक समिति बनाई है जिसमें हैदराबाद और बेंगलुरु हवाई अड्डों पर परियोजना से जुड़े तकनीकी पेशेवरों को भी शामिल किया गया है। समिति इस सुविधा के तकनीकी एवं आर्थिक पहलुओं पर विचार करेगी और एक ऐसा सॉफ्टवेयर बनाने पर काम करेगी जो सभी हवाईअड्डों के अनुकूल हो।


नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

(Last 14 days)

-Advertisement-

Facebook

To Top