होम बिहार का टॉपर घर से हुआ फरार

बिहार

बिहार का टॉपर घर से हुआ फरार

एक बार फिर बिहार इंटर परीक्षा के आर्ट्स के टॉपर गणेश कुमार रिजल्ट निकलने के बाद से कहीं नज़र नहीं आ रहे है।

बिहार का टॉपर घर से हुआ फरार

पटना : एक बार फिर बिहार इंटर परीक्षा के आर्ट्स के टॉपर गणेश कुमार रिजल्ट निकलने के बाद से कहीं नज़र नहीं आ रहे है। झारखंड के गिरीडीह केसरिया से समस्तीपुर पहुंचकर टॉपर बना गणेश ठाकुर ना तो सरिया में है और ना ही समस्तीपुर में। ऐसा माना जा रहा है कि पिछली बार स्टेट टॉपर की हकीकत मीडिया के सामने आने से काफी मजाक हुई थी। जिसमें कई माननीय और गणमान सलाखों के पीछे पहुंचे थे। इसी वजह से रिजल्ट निकलने के बाद स्टेट टॉपर गणेश फरार हो गया है।

आपको बता दें की गणेश समस्तीपुर के रामानंद सिंह जगदीश नारायण उच्च माध्यमिक स्कूल का छात्र था। वहीं स्कूल के प्रिंसिपल अभितेंद्र कुमार भी अपने स्कूल के स्टेट टॉपर को ढूंढने में लगे हुए हैं। जब स्कूल के प्रिंसिपल की केंद्र सरकार से बातचीत हुई तो उन्होंने कहा कि गणेश का कोई कांटेक्ट नंबर भी नहीं है। उसने फॉर्म भरते वक्त जो अस्थाई पता दिया था हम लोग वहां जाकर भी पता लगा चुके हैं पर वह वहां भी नहीं है। अपने स्कूल के बारे में बताते हुए प्रिंसिपल ने कहा कि इस बार साइंस, कॉमर्स में कुल 648 छात्र शामिल हुए थे जिनमें से 162 पास हुए हैं। उनका दावा है कि स्कूल में रेगुलर पढ़ाई होती थी जिसमें गणेश रोजाना विद्यालय आता था। पिछली बार हुई परीक्षा में धांधली को लेकर इस बार बोर्ड के अध्यक्ष आनंद किशोर ने कहा कि गणेश के प्राप्त अंक पर सवाल नहीं उठाया जा रहा है लेकिन सबसे बड़ा सवाल ये है कि आखिरकार स्टेट टॉपर होने के बाद गणेश लापता क्यों हो गया है।

जिस स्कूल से गणेश स्टेट टॉपर हुआ उस स्कूल की कहानी भी कुछ वैसी ही है। बिहार को आर्ट्स टॉपर देने वाले समस्तीपुर के रामानंद सिंह जगदीश नारायण उच्च माध्यमिक विद्यालय की हकीकत जानकर आप चौक जाएंगे क्योंकि ये स्कूल सरकारी स्कूल नहीं है। सिर्फ उसे बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड से छात्रों को परीक्षा में शामिल कराने की संबद्धता मिली हुई है। वहीं स्कूल के मैनेजिंग कमेटी के हेड भाजपा के बड़े नेता जवाहर प्रसाद सिंह है जो समस्तीपुर कल्याणपुर विधानसभा चुनाव में अपनी किस्मत आजमा चुके हैं। लेकिन उन्हें उपलब्धि नहीं मिली थी हालांकि वो बीजेपी के सक्रिय नेता हैं। तो स्कूल के प्रिंसिपल अभितेंद्र उनके लड़के हैं। वहीं जब आसपास के लोगों से इस स्कूल के बारे में पूछताछ की गई तो उन्होंने कहा कि ये स्कूल नहीं बल्कि पास कराने की फैक्ट्री है।

आपको बता दें कि बिहार का समस्तीपुर जिला पहले से ही छात्रों को परीक्षा में शामिल कराने को लेकर चर्चित रहा है। लेकिन एक सवाल अगर गणेश वाकई स्टेट टॉपर है तो भूमिगत क्यों हुआ, क्या स्कूल प्रबंधन उसके बारे में कुछ नहीं जानती या इसमें कोई बड़ा घोटाला है? ये तो जांच का विषय है पर हकीकत धीरे-धीरे सामने आ रही है।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Facebook, Twitter, व Google News पर हमें फॉलो करें और लेटेस्ट वीडियोज के लिए हमारे YouTube चैनल को भी सब्सक्राइब करें।

Most Popular

(Last 14 days)

-Advertisement-

Facebook

To Top