होम पत्थरों पर बोलता प्रेम

तीर्थ यात्रा

पत्थरों पर बोलता प्रेम

पत्थरों पर बोलता प्रेम

पत्थरों पर बोलता प्रेम

Photo

खजुराहो का नाम इसलिए पड़ा क्योंकि यहां खजूर के पेड़ों का विशाल बगीचा था। खजिरवाहिला से नाम पड़ा खजुराहो। लेकिन यह अपने आप में अद्भुत बात है कि यहां कोई भी खजूर के लिए नहीं आता। यहां आने वाले इसके मंदिरों को देखने आते हैं। भारतीय मंदिरों की स्थापत्य कला व शिल्प में खजुराहो की जगह अद्वितीय है। इसकी दो वजहें हैं- एक तो शिल्प की दृष्टि से ये बेजोड़ हैं ही, दूसरी तरफ इनपर स्त्री-पुरुष प्रेम की जो आकृतियां गढ़ी गई हैं, उसकी मिसाल दुनिया में और कहीं नहीं मिलती। यही कारण है कि खजुराहो को यूनेस्को से विश्व विरासत का दरजा मिला हुआ है। भारत आने वाले ज्यादातर विदेशी पर्यटक खजुराहो जरूर आना चाहते हैं। वहीं हम भारतीयों के लिए ये मंदिर एक हजार साल पहले के इतिहास का दस्तावेज हैं।

चंदेल वंश के राजाओं ने करवाया निर्माण

खजुराहो के मंदिरों का निर्माण चंदेल वंश के राजाओं ने किया था। इनके निर्माण के पीछे की कहानी भी बड़ी रोचक है। कहा जाता है कि हेमवती नाम की एक ब्राह्मण कन्या थी। एक रात जब वह रति में स्नान कर रही थी तो चंद्रमा उसपर मोहित हो गए। दोनों का प्रेम परवान चढ़ा और एक देव व स्त्री के उस मिलन की परिणति पुत्र के जन्म में हुई। बिनब्याही मां होने के कारण हेमवती को जमाने भर के ताने सुनने पड़े। उसने घर छोड़ा और खजुराहो के आसपास के जंगलों में शरण ली। यहीं उसका बेटा बढ़ा हुआ। वह अपने बेटे की मां भी थी और गुरु भी। उसी बेटे ने आगे जाकर चंद्रवर्मन नाम से चंदेल वंश की स्थापना की। चंद्रमा का पुत्र होने के कारण ये राजा चंद्रवंशी कहलाए।

जब चंद्रवर्मन राजा के रूप में स्थापित हो गया तो उसने अपनी मां के सपने को पूरा करने के लिए इन मंदिरों का निर्माण कराया। अपनी इच्छाओं को पूरी करने पर समाज से अपमानित हुई हेमवती ऐसे मंदिर बनवाना चाहती थी जो इंसान की काम इच्छाओं को उजागर करता हो। ऐसा करके वह मानवीय इच्छाओं के खालीपन के अहसास को भी रेखांकित करना चाहती थी। इन मंदिरों का निर्माण तो चंद्रवर्मन ने शुरू कराया था लेकिन पूरा बाद के शासकों ने कराया। मंदिरों के निर्माण में लगभग सौ साल लगे- सन 950 ईस्वी से लेकर 1050 ईस्वी तक। उस समय कुल 85 मंदिरों का निर्माण चंदेल राजाओं ने कराया था। समय व इतिहास के थपेड़ों से बचते-बचाते अब इनमें से केवल 22 नजर आते हैं। लेकिन इन 22 में भी पूरी तरह सलामत मंदिरों की संख्या और कम है। चंद्रवर्मन ने मंदिरों के निर्माण के लिए खजुराहो को क्यों चुना होगा, इसका कोई ठोस कारण इतिहास में नहीं मिलता।

खजुराहो इस समय भी बेहद छोटा सा कस्बा है और हजार साल पहले भी एक गांव से बड़ा न रहा होगा। मान्यताएं यह हैं कि चंदेल राजा यहां धर्म व ज्ञान की पीठ बनाना चाहते थे। कुछ लोग यह भी कहते हैं चंदेल राजाओं का रिश्ता तंत्र-मंत्र से भी था जिसमें भौतिक जरूरतों के जरिये शक्ति हासिल करने को अहमियत दी जाती थी। लेकिन इन दोनों ही दलीलों के बारे में कोई पुख्ता साक्ष्य नहीं मिलते। मूर्तियों का कोई केंद्रीय बिंदु खोजा जाए तो वह महिला है- जो अपने हर रूप में वहां मौजूद है। तत्कालीन समाज के आम जीवन-चक्र को भी मंदिरों की दीवारों पर जगह दी गई है।

मुख्य आकर्षण

खजुराहो का मुख्य आकर्षण पश्चिमी समूह के मंदिरों में ही है। यहीं ज्यादातर मंदिर हैं- कंदारिया महादेव, लक्ष्मण मंदिर, वराह मंदिर, चित्रगुप्त मंदिर, विश्वनाथ मंदिर, नंदी मंदिर, मतंगेश्वर मंदिर। पश्चिमी समूह का ही चौसठ योगिनी मंदिर परिसर के बाहर थोड़ा अलग जाकर है। लेकिन इस मंदिर से योगिनी की सारी मूर्तियां गायब हैं। ज्यादातर कालांतर में नष्ट हुई तो बाकी को हटाकर संग्रहालयों में रख दिया गया। पूर्वी समूह लगभग तीन किलोमीटर गांव में थोड़ा अंदर जाकर है। यहां समकालीन हिंदू मंदिर तो तीन ही हैं- ब्रह्मा, वामन और जावरी। जैन मंदिरों में पा‌र्श्वनाथ, आदिनाथ, घंटाई मंदिर हैं। जैन मंदिर बाद के दौर में बनाए गए। हिंदू मंदिरों में भी मिथुन मूर्तियां उस भव्यता के साथ नहीं हैं, जैसी पश्चिमी समूह में हैं। मुख्य परिसर से पांच किलोमीटर दूर दक्षिणी समूह है जिसमें दूल्हादेव और चतुर्भुज मंदिर हैं। ये मंदिर भी बाद के दौर में चंदेल वंश के आखिरी राजाओं ने बनवाए। सभी मंदिरों की शैली, बनावट, शिल्प, मंडप, अनूठे हैं, जिनके बारे में विस्तार से जानकारी यहां जाकर पाई जा सकती है।

तेरहवीं सदी के बाद ये मंदिर खो से गए। इनके चारों और घने जंगल उग आए। रखरखाव के अभाव और वक्त की मार से इनमें से कई नष्ट भी हो गए। अंग्रेजों के शासनकाल में एक अंग्रेज घुड़सवार अफसर ने इधर से गुजरते हुए इनको खोजा। लेकिन मंदिरों को दुरुस्त करने और इन्हें दुनिया के सामने फिर से पेश करने का सारा काम पिछली सदी के उत्तरार्ध में ही हुआ।

कैसे जाएं

मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले में स्थित खजुराहो आगरा से 395 किलोमीटर, सतना से 117, झांसी  से 175 किलोमीटर, भोपाल से 350 किलोमीटर दूर है। खजुराहो के लिए दिल्ली (35 मिनट की उड़ान), आगरा (40 मिनट) व वाराणसी (45 मिनट) से सीधी विमान सेवा है।

खजुराहो रेल मार्ग से जुड़ा हुआ नहीं है। दिल्ली या उत्तर भारत में अन्य जगहों से आने वालों के लिए झांसी (175 किलोमीटर) ज्यादा उपयुक्त स्टेशन है। जबकि मुंबई, कोलकाता या वाराणसी से आने वालों के लिए सतना (117 किलोमीटर) स्टेशन पर उतरना ठीक रहेगा। सतना, हरपालपुर (94 किलोमीटर), झांसी व महोबा (61 किलोमीटर) से खजुराहो के लिए लगातार बसें उपलब्ध हैं।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

(Last 14 days)

-Advertisement-

Facebook

To Top