होम नोरोवायरस: कोरोना वायरस के बाद अब इंग्लैंड मे नोरोवायरस के बढ़ने लगे हैं मामले, जानें क्या है यह वायरस और कैसे फैसला है?

समाचारअंतर्राष्ट्रीय

नोरोवायरस: कोरोना वायरस के बाद अब इंग्लैंड मे नोरोवायरस के बढ़ने लगे हैं मामले, जानें क्या है यह वायरस और कैसे फैसला है?

नोरोवायरस:  कोरोना वायरस  के बाद अब इंग्लैंड मे नोरोवायरस के बढ़ने लगे हैं मामले, जानें क्या है यह वायरस और कैसे फैसला है?

नोरोवायरस: कोरोना वायरस के बाद अब इंग्लैंड मे नोरोवायरस के बढ़ने लगे हैं मामले, जानें क्या है यह वायरस और कैसे फैसला है?

Photo

नोरोवायरस: कोरोना वायरस के बाद अब इंग्लैंड मे नोरोवायरस के बढ़ने लगे हैं मामले, जानें क्या है यह वायरस और कैसे फैसला है? 

इंग्लैंड: कोरोना वायरस खौफ खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है कि इसी बीच इंग्लैंड में नोरोवायरस के मामले अचानक सामने आने लगे हैं, जो कि बहुत ही संक्रामक रोग है। नोरोवायरस को वोमिटिंग बग समेत कई और नाम से भी जाना जाता है। पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड ने कहा कि हाल में पूरे देश में नोरोवायरस के मामले बढ़ने लगे हैं। यह वायरस खाने-पीने की चीजों के जरिए फैलता है। 

 

क्या है नोरोवायरस? 

अमेरिका के सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीस) के अनुसार नोरोवायरस एक अत्यधिक संक्रामक वायरस है, जो वहां आधे से ज्यादा भोजन से उत्पन्न होने वाली बीमारियों का कारण है। नोरोवायरस के कई नाम हैं, जिसमें एक स्टमक फ्लू भी है जिसका मौसमी फ्लू से कोई लेना देना नहीं है और ना ही यह वायरस कोरोना वायरस की बिरादरी का है। सीडीसी के मुताबिक नोरोवायरस को 'फूड प्वाइजनिंग' और 'स्टमक बग' के नाम से भी जानते हैं। वहीं यह रोग 'वोमिटिंग बग' के नाम से भी जाना जाता है। 

नोरोवायरस के लक्षण-

नोरोवायरस के लक्षण इससे संक्रमित होने के बाद आमतौर पर 1 से 2 दिन के बाद नजर आते हैं और एक से तीन दिनों तक परेशान करते हैं। इसके सबसे आम लक्षणों में डायरिया, पेट दर्द, जी मिचलाना और उल्टी, बुखार, सिरदर्द और बदन दर्द शामिल हैं। मायो क्लिनिक के मुताबिक इससे संक्रमित मरीज एसिम्पटोमेटिक भी हो सकते हैं यानी संक्रमण के बावजूद उनमें कोई लक्षण नहीं नजर आ सकते हैं।

कितना खतरनाक है यह वायरस? 

नोरोवायरस संक्रमित व्यक्तियों के मल और उल्टी में पाया जाता है। यह वायरस बिना धुले भोजन, दूषित पानी या दूषित सतह के जरिए लोगों को संक्रमित कर सकता है। एक संक्रमित व्यक्ति एकबार में अरबों नोरोवायरस पार्टिकल्स बाहर छोड़ सकता है। सीडीसी के मुताबिक इसका छोटा सा कण भी किसी दूसरे इंसान को बीमार कर सकता है।

कैसे होता है इंफेक्शन? 

नोरोवायरस से संक्रमित भोजन खाने या उससे दूषित पानी पीने से इसका संक्रमण हो सकता है। इसके इलावा इससे दूषित सतह को छूने के बाद यदि मुंह को छुआ जाए तो भी संक्रमण हो सकता है। नोरोवायरस से संक्रमित व्यक्ति के सीधे संपर्क में आने, उसके साथ खाना शेयर करने या बर्तन इस्तेमाल करने से भी नोरोवायरस का इंफेक्शन हो सकता है।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

(Last 14 days)

-Advertisement-

Facebook

To Top