शिक्षा

अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्म महोत्सव सी.एम.एस. में 4 अप्रैल से

अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्म महोत्सव सी.एम.एस. में 4 अप्रैल से

अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्म महोत्सव सी.एम.एस. में 4 अप्रैल से

Photo

लखनऊ, 31 मार्च। सिटी मोन्टेसरी स्कूल के फिल्म्स डिवीजन के तत्वावधान में विश्व का सबसे बड़ा अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्मोत्सव (आई.सी.एफ.एफ.-2019) 4 से 12 अप्रैल तक सी.एम.एस. कानपुर रोड ऑडिटोरियम में आयोजित किया जा रहा है। इस नौ-दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्मोत्सव में प्रदर्शन हेतु 101 देशों की लगभग 1655 शैक्षिक बाल फिल्में आई हैं, जिनमें से चुनिन्दा लगभग 550 बाल फिल्मों का निःशुल्क प्रदर्शन किया जायेगा। बाल फिल्मोत्सव के दौरान किशोरों व छात्रों के उत्साहवर्धन हेतु फिल्म जगत की तमाम दिग्गज हस्तियाँ एवं बाल कलाकार अपनी उपस्थिति दर्ज करा रहे हैं। आई.सी.एफ.एफ.-2019 में पधारने वाले बाल कलाकारों में अभिनेता श्री बोमन ईरानी, अभिनेता श्री शाहबाज खान, अभिनेता श्री आशीष सिंह, अभिनेता श्री अभिषेक दूहान, अभिनेता श्री युसुफ हुसैन, अभिनेता-निर्देशक श्री निखिल द्विवेदी,  अभिनेता-निर्देशक श्री रूमी सिद्दीकी, निर्माता-निर्देशक श्री पार्थो घोष, अभिनेत्री सुश्री गौरी पंडित, अभिनेत्री सुश्री सुष्मिता मुखर्जी, अभिनेत्री सुश्री नंदिता ओम पुरी, अभिनेत्री सुश्री सुदीपा सिंह, अभिनेत्री सुश्री मनीषा ठक्कर, गायक श्री एम डी सलामल, गायक श्री आर.जे. विक्रम एवं बाल कलाकारों में दर्शील सफारी, अनमोल चौधरी, अनिरूद्ध दवे, महिमा गौड़, रूद्र सोनी, जपतेज सिंह, आरव शुक्ला, देव जोशी, सुहानी भटनागर, सलोनी डैनी, अमन सिद्दीकी, नमन जैन, रित्विक सहोर, प्रभजोत सिंह, अनुष्का सेन, रुबल जैन एवं यूनुस खान शामिल हैं। उक्त जानकारी सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी श्री हरि ओम शर्मा ने दी है।

            श्री शर्मा ने बताया कि लखनऊ व आसपास के क्षेत्रों के बच्चों के लिए साफ-सुथरे, सात्विक एवं शिक्षाप्रद मनोरंजन का पिटारा अब बस खुलने ही वाला है। सी.एम.एस. कर अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्मोत्सव सभी के लिए पूर्णतया निःशुल्क है एवं लखनऊ के सभी स्कूलों के बच्चे, युवक, माता-पिता, अभिभावक व शिक्षक ‘प्रथम आगत प्रथम स्वागत’ के आधार पर बाल फिल्में देखने के लिए आमंत्रित हैं। अन्तर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल में प्रातः 9.00 बजे एवं दोपहर 12.00 बजे से रोजाना दो फिल्म शो आयोजित होंगे तथापि बाल फिल्मों का प्रदर्शन सी.एम.एस. कानपुर रोड के मेन आडिटोरियम के अलावा सात मिनी ऑडिटोरियम में एक साथ किया जायेगा। बच्चों की सुविधा के लिए विदेशी बाल फिल्मों का हिन्दी व अंग्रेजी रूपान्तरण भी साथ-साथ दिखाया जायेगा। अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्मोत्सव में विभिन्न श्रेणियों के अन्तर्गत सर्वश्रेष्ठ फिल्मों को 10 लाख रूपये के नगद पुरस्कारों से सम्मानित किया जायेगा। सर्वश्रेष्ठ बाल फिल्मों का चयन एक अन्तर्राष्ट्रीय ज्यूरी द्वारा किया जायेगा, जिनमें श्री निल्स मामरोज (डेनमार्क), सुश्री लाली किक्नावेलीज (जार्जिया), श्री विद्याशंकर एन जोईस (भारत), श्री श्याम प्रसाद (भारत) एवं श्री विनोद गनात्रा (भारत) शामिल हैं।

            श्री शर्मा ने बताया कि अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्मोत्सव का मुख्य उद्देश्य शैक्षिक बाल फिल्मों के माध्यम से छात्रों व युवाओं के नैतिक, चारित्रिक व आध्यात्मिक गुणों को विकसित कर समाज का आदर्श नागरिक बनाना है। यह फिल्म फेस्टिवल मात्र मनोरंजन के लिए नहीं है बल्कि यह शिक्षा का एक अभिन्न अंग है, जो भावी पीढ़ी में जीवन मूल्यों व चरित्र निर्माण की भावनाओं का विकास करने का एक उत्कृष्ट प्रयास साबित होगा।

            श्री शर्मा ने बताया कि सी.एम.एस. द्वारा पिछले 10 वर्षों से लगातार आयोजित अंतर्राष्ट्रीय बाल फिल्म महोत्सव अत्यन्त ही सफल रहा है। इसकी लोकप्रियता का यह आलम रहा कि प्रत्येक वर्ष लगभग एक लाख से अधिक बच्चे इस अंतर्राष्ट्रीय बाल फिल्मोत्सव में दिखाई जाने वाली फिल्मों को देखने के लिए आते हैं। श्री शर्मा ने उम्मीद जताई कि लखऩऊ एवं आसपास के क्षेत्रों के दो लाख से अधिक बच्चे इस बाल फिल्मोत्सव से लाभान्वित होंगे। अभी तक लगभग एक लाख बच्चों की एडवान्स बुकिंग हो चुकी है। श्री शर्मा ने विश्वास व्यक्त किया कि आगामी 4 अप्रैल से प्रारम्भ हो रहा यह अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्म महोत्सव जीवन में कभी न भुलाया जाने वाला एक स्वर्णिम अवसर साबित होगा।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top