राज्यउत्तर प्रदेश

सी.एम.एस. छात्रा ने जीती अमेरिका की प्रतिष्ठित फुलब्राइट-नेहरू डॉक्टरल रिसर्च फेलोशिप

सी.एम.एस. छात्रा ने जीती अमेरिका की प्रतिष्ठित फुलब्राइट-नेहरू डॉक्टरल रिसर्च फेलोशिप

सी.एम.एस. छात्रा ने जीती अमेरिका की प्रतिष्ठित फुलब्राइट-नेहरू डॉक्टरल रिसर्च फेलोशिप

Photo

लखनऊ, 8 मई। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, स्टेशन रोड कैम्पस की छात्रा पारुल श्रीवास्तव ने अमेरिका की प्रतिष्ठित फुलब्राइट-नेहरू डाॅक्टरल रिसर्च फेलोशिप अर्जित कर लखनऊ का नाम गौरवान्वित किया है। इस फेलोशिप के दौरान सी.एम.एस. छात्रा को अपने शोध कार्यो हेतु अमेरिकी प्रशासन का भरपूर सहयोग मिलेगा, जिसके अन्तर्गत विशेष जे-1 वीजा, मासिक खर्च, अमेरिका आने-जाने का सम्पूर्ण खर्च एवं दुर्घटना अथवा बीमारी की स्थिति में अमेरिकी प्रशासन के मानकों के अनुसार समस्त सुविधाएं शामिल हैं। सी.एम.एस. संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गाँधी ने सी.एम.एस. छात्रा की उपलब्धि पर हार्दिक प्रसन्नता व्यक्त करते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की। डा. गाँधी ने कहा कि लखनऊ के लिए यह बड़े गौरव की बात है कि सी.एम.एस. के छात्र अपने मेधात्व एवं काबिलियत के दम पर लखनऊ का नाम पूरे विश्व में रोशन कर रहे हैं।

            सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी श्री हरि ओम शर्मा ने बताया कि पारुल ने इस उल्लेखनीय सफलता का सम्पूर्ण श्रेय सी.एम.एस. को देते हुए कहा कि ‘‘सी.एम.एस. में स्कूली शिक्षा के दौरान मेरे शिक्षकों ने निरन्तर मेरा मार्गदर्शन करके मुझे आत्मविश्वास से परिपूर्ण बनाया जिसकी बदौलत मैंने देश भर के उच्च बौद्धिक और शिक्षित शोधकर्ताओं के साथ प्रतिस्पर्धा करने और अन्र्तराराष्ट्रीय मंच पर भारत का प्रतिनिधित्व करने का विश्वास विकसित किया। पूरे आत्मविश्वास के साथ चुनौतियों का सामना करने की जो सीख सी.एम.एस. छात्रों में प्रारम्भिक दौर से ही विकसित की जाती है, वह सी.एम.एस. जैसे विश्वस्तरीय स्कूल में ही संभव है।’’

            श्री शर्मा ने बताया कि पारुल ने सी.एम.एस. स्टेशन रोड कैम्पस से स्कूली शिक्षा प्राप्त करने के उपरान्त लखनऊ विश्वविद्यालय एवं दिल्ली के रामजस कालेज, दिल्ली विश्वविद्यालय व जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से उच्चशिक्षा पूर्ण की। पारूल वर्तमान में हैदराबाद यूनिवर्सिटी में रिसर्च कर रही हैं, साथ ही फुलब्राइट रिसर्च स्काॅलर के तौर पर अमेरिका की यूनिवर्सिटी आॅफ मैसाचुसेट्स के इतिहास विभाग में अपनी सेवायें प्रदान कर रही हैं। इसके अलावा, सी.एम.एस. की इस मेधावी छात्रा ने 1947 में भारत के विभाजन पर विशेष शोघ कार्य किया है एवं इनके लेखन को विभिन्न अन्तर्राष्ट्रीय पत्र-पत्रिकाओं एवं पत्रकारिता वेबसाइटों पर प्रमुखता से प्रकाशित किया गया है।

            श्री शर्मा ने कहा कि सी.एम.एस. अपने छात्रों को उनकी रूचि के क्षेत्र में विकास का अवसर उपलब्ध कराता है एवं भावी पीढ़ी का व्यक्तित्व विकास कर देश व समाज को प्रतिभावान व क्षमतावान नागरिक प्रदान कर रहा है। सी.एम.एस. शिक्षकों के कड़े परिश्रम व लगन की बदौलत ही विद्यालय के छात्र आज देश ही नहीं अपितु पूरे विश्व में लखनऊ का गौरव बढ़ा रहे हैं।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

Facebook

To Top