शिक्षा

एनसीईआरटी ने अपनी पाठ्य पुस्तकों की आपूर्ति के लिए शुरू किया वेब-पोर्टल

एनसीईआरटी ने अपनी पाठ्य पुस्तकों की आपूर्ति के लिए शुरू किया वेब-पोर्टल

एनसीईआरटी ने अपनी पाठ्य पुस्तकों की आपूर्ति के लिए शुरू किया वेब-पोर्टल

Photo

मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री श्री उपेन्द्र कुशवाह ने स्कूलों और लोगों के लिए एनसीईआरटी की पाठ्य पुस्तकों की आपूर्ति के लिए  नई दिल्ली में वेब-पोर्टल का शुभारंभ किया। इस पोर्टल से देश भर में पाठ्य पुस्तकों का बेहतर वितरण सुनिश्चित होगा और एनसीईआरटी की पाठ्य पुस्तकों की अनुपलब्धता के बारे में स्कूलों और पालकों की आशंकाओं को दूर किया जा सकेगा। सत्र 2018-19 की पुस्तकों के लिए ऑर्डर देने के वास्ते स्कूल 8 सितंबर 2017 तक अपनी-अपनी बोर्ड संबद्धता संख्याएं और अन्य विवरण दर्ज कर इस पोर्टल पर लॉग-इन कर सकते हैं। यह वेब-पोर्टल www.ncertbooks.ncert.gov.in. पर उपलब्ध है।

ऑर्डर देते समय स्कूलों को भुगतान करने की आवश्यकता नहीं है। वे आपूर्ति होने पर भुगतान कर सकते हैं। स्कूलों के पास सीधे अपने नजदीकी एनसीईआरटी विक्रेताओं से या अहमदाबाद, कोलकाता, गुवाहाटी, बैंगलूरू स्थित एनसीईआरटी के क्षेत्रीय उत्पादन सह वितरण केन्द्रों (आरपीडीसी) से भी पुस्तकें खरीदने का विकल्प होगा।जल्द ही लोग भी पोर्टल से पाठ्य पुस्तकें खरीद सकते है। वे पोर्टल पर लॉग-इन कर अपने ऑर्डर दे सकते हैं और नाम मात्र डाक शुल्क देने पर पुस्तकें उनके घरों में पहुंचा दी जाएंगी। पोर्टल पर खरीददार दिए गए अपने ऑर्डर की स्थिति पर नजर रख सकेंगे। पाठ्य पुस्तकें दिल्ली में एनसीईआरटी के मुख्यालयों में स्थित खुदरा बिक्री कांउटरों, इसके क्षेत्रीय शिक्षा संस्थान (आरआईई) अजमेर, भोपाल, भुवनेश्वर, शिलांग और मैसूरू तथा अहमदाबाद, कोलकाता, गुवाहाटी और बैंगलुरू में इसके क्षेत्रीय उत्पादन सह वितरण केन्द्रों पर भी बेची जाती रहेंगी।

एनसीईआरटी पाठ्य पुस्तकें इसकी वेबसाइट www.ncert.nic.in से नि:शुल्क डाउन लोड की जा सकती है। “ ई पाठशाला”  पर लॉग-इन कर या मोबाइल ऐपलिकेशन के जरिए एनसीईआरटी पाठ्य पुस्तकें डिजिटल रूप में भी प्राप्त की जा सकती हैं। एनसीईआरटी विभिन्न राज्यों/केन्द्रशासित प्रदेशों को अपनी पाठ्य पुस्तकें छापने के कॉपी राईट भी देती है। सत्र 2017-2018 के लिए 15 राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों को कॉपी राईट दिए गए हैं।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top