उत्तर प्रदेश

Rotomac Scam: CBI की छापेमारी जारी, कोठारी और परिवार से पूछताछ

Rotomac Scam: CBI की छापेमारी जारी, कोठारी और परिवार से पूछताछ

Rotomac Scam: CBI की छापेमारी जारी, कोठारी और परिवार से पूछताछ

Photo

सीबीआई ने कानपुर के उद्योगपति विक्रम कोठारी के दिल्ली स्थित आवास पर सोमवार को छापेमारी की और इसे सीज कर दिया है। दिल्ली में भी सीबीआई की छापेमारी जारी है। यह छापेमारी लगातार 20 घंटे से जारी है। सीबीआई ने सोमवार को रोटोमैक ग्लोबल प्राइवेट लिमिटेड व इसके डायरेक्टर विक्रम कोठारी, साधना कोठारी, राहुल कोठारी और अज्ञात बैंक अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। यह शिकायत बैंक ऑफ इंडिया की शिकायत के आधार पर दर्ज की गई है।

सात बैंकों का पैसा गबन करने का आरोप कोठारी के ठिकानों पर छापेमारी के बाद सीबीआई ने कहा कि शिकायत में आरोप लगाया गया है कि रोटोमैक केस में सात बैंकों के साथ धोखाधड़ी की गई है और उनका पैसा दांव पर लगा है। बैंकों का कुल 2919 करोड़ रुपए दांव पर है। इसमे मूलधन के अलावा ब्याज की राशि नहीं जुड़ी है। कुल पैसा ब्याज समेत 3695 करोड़ रुपए है, जोकि बैंकों से लोन लिया गया था, लेकिन उसे चुकाया नहीं गया है। जिन बैंकों का पैसा कोठारी ने लोन स्वरूप लिया है वह बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ बड़ौदा, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, इंडियन ओवरसीज बैंक, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, इलाहाबाद बैं और ओरिएंटल बैंक शामिल हैं।

इस मामले में सीबीआई ने कोठारी के अलावा उनकी पत्नी और बेटे से भी सोमवार को पूछताछ की है। जिस तरह से मीडिया में यह खबर आई कि विक्रम कोठारी देश छोड़कर भाग गए हैं, जबकि उसे कोठारी ने गलत साबित करते हुए कहा था कि वह कानपुर में ही हैं और उन्होंने कुछ भी गलत नहीं किया है। उन्होंने कहा कि मैंने कुछ भी गलत नहीं किया है, इसे घोटाला मत कहिए, मैं देश नहीं छोड़ रहा हूं, मैं कानपुर में ही हूं। बैंकों ने मेरी कंपनी को एनपीए घोषित किया है, लेकिन उसे डिफॉल्टर नहीं कहा है। यह मामला अभी भी नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल में है। मैंने लोन लिया है और मैं इसका जल्द ही भुगतान कर दुंगा।

खबरों के मुताबिक इलाहाबाद बैंक, बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ बड़ौदा, इंडियन ओवरसीज बैंक, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने रोटोमैक को लोन देने के लिए नियमों के साथ समझौता किया है। बैंक ऑफ बड़ौदा ने कोठोरी के खिलाफ सीबीआई से शिकायत भी की है। आपको बता दें कि पंजाब नेशनल बैंक में 11500 करोड़ रुपए से अधिक के घोटाले के सामने आने के बाद एक के बाद एक तमाम बैंकों के भीतर चल रहे फर्जीवाड़े की खबरें सामने आ रही हैं।
 

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top