समाचारराष्ट्रीयराज्यउत्तर प्रदेश

बेरोजगारी व निजीकरण को लेकर समाजवादी पार्टी के नेताओं ने किया धरना प्रदर्शन

बेरोजगारी व निजीकरण को लेकर समाजवादी पार्टी के नेताओं ने किया धरना प्रदर्शन

बेरोजगारी व निजीकरण को लेकर समाजवादी पार्टी के नेताओं ने किया धरना प्रदर्शन

Photo

बहराइच। बेरोजगारी भ्रष्टाचार व महंगी शिक्षाऔर बेहाल किसान निजी करण व आरक्षण पर आज समाजवादी पार्टी के नेताओं ने कलेक्ट्रेट परिसर में धरना प्रदर्शन कर विरोध जताया। समाजवादी पार्टी युवजन सभा के जिला अध्यक्ष मोहम्मद अफ़साल उर्फ शानू ने बताया कि पूरे उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी कि सरकार के द्वारा किए गए कार्यों का विरोध हो रहा है जिसको लेकर पूरे प्रदेश में समाजवादी पार्टी के नेताओं द्वारा धरना प्रदर्शन जारी है साथ ही उनका यह भी कहना है उत्तर प्रदेश में जनता बेहाल है और महंगी शिक्षा वआरक्षण पर वार। यूपी बीएड प्रवेश परीक्षा में दलित छात्रों के निशुल्क परीक्षा पर रोक हटाए जाने के संबंध में ज्ञापन भी दिया गया है उनका कहना है कि जब से उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार बनी है लगातार पढ़ा-लिखा नौजवान बेरोजगारी की मार झेल रहा है किसान पूरी तरह से बर्बाद हो चुके हैं खाद बीज के दाम आसमान छू रहे हैं किसान की लागत का मूल्य किसान को नहीं मिल पा रहा है भाजपा सरकार निजी करण के माध्यम से पूर्णतया घोटाले व भ्रष्टाचार में लगी हुई है जिससे लगातार रोजगार खत्म होते जा रहे हैं।

आपको बता दें की समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव के आवाहन पर पूरे उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा भारतीय जनता पार्टी की सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला जा रहा है जिसके तहत आज जनपद बहराइच में भी सपाइयों द्वारा विशाल धरना प्रदर्शन किया गया धरना प्रदर्शन में समाजवादी युवजन सभा के जिला अध्यक्ष मोहम्मद अफसाक उर्फ सानू मुलायम सिंह यूथ ब्रिगेड के जिला अध्यक्ष अजितेश पांडेय व लोहिया वाहिनी के जिला अध्यक्ष प्रदीप वर्मा युवा छात्र सभा जिला अध्यक्ष नंदेश्वर नंद यादव मौजूद रहे धरना प्रदर्शन के बाद सपाइयों ने नगर मजिस्ट्रेट को ज्ञापन सौंपा इनकी प्रमुख मांगे किसानों के खाद बीज का दाम कम हो और गन्ना किसानों का बकाया भुगतान तत्काल किया जाए किसानों के दुर्घटना बीमा में राशि बढ़ाकर 10 लाख किया जाए और किसानों के बकाया  कर्ज माफ हो उनके लागत के सापेक्ष अधिक मूल्य उनकी फसलों का दिया जाए शिक्षा के बाजारीकरण पर रोक लगाई जाए निशुल्क शिक्षा दिया जाए। बढ़ती हुई बेरोजगारी पर रोक लगाई जाए पढ़े-लिखे बेरोजगार युवाओ को रोजगार दिया जाए दलित पिछड़े वर्गों आरक्षण को कमजोर ना किया जाए और सभी नौकरियां शिक्षा के क्षेत्रों में उनको आरक्षण दिया जाए निजी करण में भ्रष्टाचार खत्म हो निजीकरण पर रोक लगाई जाए।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top