होम यूपी के तीर्थस्थलों वाले शहरों पर ही प्रभु ने दिखाई मेहरबानी

उत्तर प्रदेश

यूपी के तीर्थस्थलों वाले शहरों पर ही प्रभु ने दिखाई मेहरबानी

यूपी के तीर्थस्थलों वाले शहरों पर ही प्रभु ने दिखाई मेहरबानी

यूपी के तीर्थस्थलों वाले शहरों पर ही प्रभु ने दिखाई मेहरबानी

Photo

रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने अपने दूसरे बजट में आमजन और गरीबों के लिए कई अहम घोषणाएं की हैं। इस बजट में सबसे बड़े प्रदेश उत्तर प्रदेश को बुलेट ट्रेन सहित कई और सुविधाओं की जरूरत थी। लेकिन प्रभु ने सिर्फ उत्तर प्रदेश के धार्मिक पर्यटन स्थलों में हरिद्वार, मथुरा व वाराणसी के स्टेशनों को ही कायाकल्प करने की घोषणा की। इन स्टेशनों पर यात्री सुविधाएं बढ़ाई जाएंगी व स्टेशनों को खूबसूरत बनाया जाएगा।

 

उत्तर प्रदेश के लोगों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चहेती बुलेट ट्रेन चाहिए। यूपी के लोग बुलेट ट्रेन की आस में रेलमंत्री सुरेश प्रभु की ओर देख रहे हैं। यूपी के लोगों को उम्मीद है कि इस बार केंद्र सरकार यूपी को बुलेट ट्रेन जरूर देगी। 

 

उधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बुलेट ट्रेन के लिए यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी केंद्र सरकार की ओर बड़ी शिद्दत से हाथ बढ़ाया है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने रेल मंत्री सुरेश प्रभु को पत्र लिखा है। पत्र में बुलेट ट्रेन के लिए फ्री जमीन मुहैया कराने की पेशकश की गई है। इसके बाद यूपी के लोगों की बुलेट ट्रेन मिलने की उम्मीदों को भी पंख लग गया है। 

 

हालांकि यूपी के सीएम अखिलेश यादव की इस पेशकश पर रेल मंत्रालय का क्या रूख रहता है। यह देखना होगा पर इससे यूपी का बुलेट ट्रेन को लेकर दावा जरूर मजबूत हो गया है। बुलेट ट्रेन के अलावा भी देश के इस सबसे बड़े प्रदेश की कुछ अन्य छोटी-छोटी उम्मीदें हैं। जैसे यूपी में 25 से ज्यादा रेलवे ब्रिज बनाने की बात पिछले कई वर्षों से चल रही है पर यह मामला अधर में है। इनमें तीन तो लखनऊ में ही हैं।

 

रेलवे कोच फैक्ट्री, रायबरेली अभी तक शुरू नहीं हो सकी है। यह यूपीए की महत्वाकांक्षी परियोजना थी। इस परियोजना से यूपी के लोगों को काफी उम्मीदें थी। गोमतीनगर रेलवे स्टेशन का विस्तार करना था। लोगों को उम्मीद है कि इस बार यह हो पाएगा

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

(Last 14 days)

-Advertisement-

Facebook

To Top