होम GST को लेकर 7 बड़ी अफवाहें और जानिये उनका सच

अर्थ व बाजार

GST को लेकर 7 बड़ी अफवाहें और जानिये उनका सच

केंद्र की मोदी सरकार ने देशभर में एक राष्ट्र-एक कर की व्यवस्था को लेकर GST को लॉन्च किया। 30 जून को संसद के सेंट्रल हॉल में खास कार्यक्रम का आयोजन किया और GST की शानदार लॉन्चिंग की गई।

GST को लेकर 7 बड़ी अफवाहें और जानिये उनका सच

नई दिल्ली। केंद्र की मोदी सरकार ने देशभर में एक राष्ट्र-एक कर की व्यवस्था को लेकर GST को लॉन्च किया। 30 जून को संसद के सेंट्रल हॉल में खास कार्यक्रम का आयोजन किया और GST की शानदार लॉन्चिंग की गई। GST लागू होने के बाद सोशल मीडिया पर तरह-तरह की अफवाहें भी फ़ैल रही हैं। इन अफवाहों को लेकर राजस्व सचिव हंसमुख अढ़िया ने सफाई देते हुए ट्विटर पर GST को लेकर लोगों की जिज्ञासा को शांत करने की कोशिश की है।

चलिए एक नजर डालते है GST को लेकर सोशल मीडिया में फैली अफवाहों और उनकी सच्चाई पर :-

1. अफवाह- सभी इनवॉइस (Bill) केवल कंप्यूटर के जरिए जारी करने होंगे?
सच - ऐसा जरुरी नहीं है, इनवॉइस (Bill) मैन्युअली यानी हाथ से लिख कर भी जारी किया जा सकता है।

2. अफवाह- GST लागू होने के बाद कारोबार (लेन-देन) करते समय हमेशा इंटरनेट की जरुरत होगी?
सच - हर महीने रिटर्न दाखिल करते समय ही इंटरनेट की जरुरत होगी।

3. अफवाह- मेरे पास प्रोविजनल आईडी है, लेकिन कारोबार करने के पहले फाइनल आईडी का इंतजार कर रहा हूं?
सच- प्रोविजनल आईडी ही GSTIN नंबर है। इससे आप कारोबार कर सकते हैं, आपको इसमें कोई दिक्कत नहीं होगी।

4. अफवाह- जिस सामान का कारोबार मैं करता था, वो पहले छूट के दायरे में था, ऐसे में अब कारोबार शुरू करने से पहले इसके लिए नए रजिस्ट्रेशन की जरुरत होगी?
सच - आप पहले की तरह ही अपना कारोबार जारी रख सकते हैं। 30 दिनों के अंदर रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य होगा।

5. अफवाह- हर महीने तीन रिटर्न दाखिल करने होंगे?
सच - हर महीने केवल एक ही रिटर्न दाखिल करना होगा, जिसके तीन हिस्से हैं। पहला हिस्सा डीलर को भरना होगा, बाकी दो अपने आप कंप्यूटर से ही भर जाएगा।

6. अफवाह- छोटे डीलर को भी रिटर्न में इनवॉयस जानकारी भरनी होगी?
सच - जो लोग खुदरा कारोबार (बिजनेस टू कन्ज्यूमर या B2C) में हैं, उन्हें कुल बिक्री का सार देना होगा।

7. अफवाह- GST की दरें वैट की पुरानी दरों से काफी ज्यादा हैं?
सच - सिर्फ देखने में ऐसा इसीलिए लग रहा है क्योंकि पहले एक्साइज ड्यूटी समेत कुछ दूसरे टैक्स दिखाई नहीं देते थे। अब ये सभी GST में मिला दिए गए हैं।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

(Last 14 days)

-Advertisement-

Facebook

To Top