होम मुझे गिराके अगर तुम सम्भल सको तो चलो: मोदी

दिल्ली

मुझे गिराके अगर तुम सम्भल सको तो चलो: मोदी

मुझे गिराके अगर तुम सम्भल सको तो चलो: मोदी

मुझे गिराके अगर तुम सम्भल सको तो चलो: मोदी

Photo

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब देते हुए कई बार विपक्ष पर निशाना साधा और अंत में निदा फाजली की एक गजल से अपने विरोधियों पर चुटकी ली। मोदी ने करीब एक घंटे के अपने भाषण का समापन करते हुए निदा फाजली की यह गजल पढ़ी- 

सफर में धूप तो होगी, जो चल सको तो चलो 
सभी हैं भीड़ में, तुम भी निकल सको तो चलो 
किसी के वास्ते राहें कहां बदलती हैं 
तुम अपने आप को खुद ही बदल सको तो चलो
यहां किसी को कोई रास्ता नहीं देता
मुझे गिरा के अगर तुम संभल सको तो चलो
यही है जिंदगी, कुछ ख्वाब चंद उम्मीदें 
इन्ही खिलौनों से तुम भी बहल सको तो चलो

मोदी इस गजल का हर शेर पढऩे के बाद बीच-बीच में रुक जाते थे और अपनी भाव भंगिमा से विपक्ष पर चुटकी भी लेते थे। इस दौरान सत्तापक्ष के सदस्यों ने थपथपाकर उनका समर्थन किया।  

 

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

(Last 14 days)

-Advertisement-

Facebook

To Top