होम एक बार फिर हुआ बिहार बोर्ड के रिजल्ट में गड़बड़ी

बिहार

एक बार फिर हुआ बिहार बोर्ड के रिजल्ट में गड़बड़ी

बिहार बोर्ड की समस्यांए दिन पे दिन बढ़ती ही जा रही है, सरकार के लाख कोशिशों के बाद भी बिहार बोर्ड के रिजल्ट में गड़बड़ी रुकने का नाम नहीं ले रहीं है।

एक बार फिर हुआ बिहार बोर्ड के रिजल्ट में गड़बड़ी

पटना : बिहार बोर्ड की समस्यांए दिन पे दिन बढ़ती ही जा रही है, सरकार के लाख कोशिशों के बाद भी बिहार बोर्ड के रिजल्ट में गड़बड़ी रुकने का नाम नहीं ले रहीं है। और शिक्षा विभाग के द्वारा किए गए लाखों दावों के बाद भी बिहार बोर्ड के रिजल्ट का परिणाम आया तो पता चला कि किसी स्टूडेंट का रोल नंबर गलत है तो किसी का सब्जेक्ट। यहां तक की बिना परीक्षा दिए ही उस विषय के नंबर अंकित है, तो कुछ छात्र को हर विषय में उपस्थित होने के बाद भी अनुपस्थित कर दिए गए हैं। यह गड़बड़ी तब देखने को मिला जब पिछले साल हुए चॉपर घोटाले के बाद सरकार ने इस बार कदाचारमुक्त परीक्षा का वादा भी किया गया था लेकिन परीक्षा के अजब-गजब परिणाम ने फिर शिक्षा विभाग पर कई तरह के सवाल खड़े कर दिए हैं।

सबसे पहले हम बात करेंगे बिहार के मोतिहारी जिले के रहने वाले प्रदुमन कुमार का जिन्होंने परीक्षा राजनीति शास्त्र का दिया था लेकिन रिजल्ट में समाजशास्त्र का नंबर दिया गया। वहीं राजनीति शास्त्र में अनुपस्थित कर रिजल्ट में फेल बता दिया गया। तो दूसरा छात्र मुजफ्फरपुर जिले के मयंक आनंद है जिनका आरोप है कि साइंस के तीनों विषयों में उन्हें बोर्ड के द्वारा फेल कर दिया गया जबकि परीक्षा के बाद आकलन के दौरान उन्हें 50% अंक मिलने चाहिए थे। वहीं वैशाली के रहने वाले मनीष कुमार का कहना है कि मेरा रोल नंबर एडमिट कार्ड और मार्कशीट पर अलग-अलग दे दिया गया। जहां एडमिट कार्ड पर 7040034 है तो मार्कशीट पर 17011 27 है। नालंदा जिले के रहने वाले आदित्य शेखर का कहना है कि मुझे फिजिक्स में 3 और केमिस्ट्री में 4 अंक मिले हैं। ऐसा संभव नहीं है क्योंकि हमने इंग्लिश मीडियम से पढ़ाई की थी और हमें कम से कम 60% अंक मिलने चाहिए थे। अब अगर बात करें बिहार बोर्ड की तो उनके अनुसार इस बार कोई गड़बड़ी नहीं हुई है।

आपको बता दे कि बोर्ड का ऐसा मानना है कि इस बार बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड ने प्रशासन की मदद से इस कदर कदाचारमुक्त परीक्षा का आयोजन किया था जिससे परीक्षा में धांधली की कोई बात सामने नहीं आई थी। इसलिए ऐसा संभव है कि रिजल्ट पर इसका प्रभाव दिख रहा है। दूसरी तरफ बोर्ड का यह भी मानना है कि इस साल परीक्षा की प्रक्रिया में बदलाव भी किया गया था और पहली बार बबलिंग के द्वारा ओ एम आर सीट को भरना था इसमें परीक्षार्थियों ने संभवत गलती की होगी स्क्रूटनी के बाद रिजल्ट अच्छा भी होगा।

वहीं बोर्ड के द्वारा यह भी कहा जा रहा है कि इवैल्यूएशन में देरी के बावजूद इसे प्रक्रिया के तहत किया गया है इसमें योग्य शिक्षक ही शामिल हुए थे इसलिए वहां कोई त्रुटि की आशंका नहीं है। आंसर की में गलती की बात पर बोर्ड ने कहा कि उसे सुधार लिया गया है और उसको ध्यान में रखकर छात्रों को अतिरिक्त नंबर दिए गए है। लेकिन इस सबके बावजूद छात्रों का हंगामा कम होने का नाम नहीं ले रहा है। छात्र रोजाना बोर्ड की गलती लेकर उनके कार्यालय के सामने हंगामा करते हैं और बिहार बोर्ड अपनी गलती को छुपाने के लिए वह तरह-तरह की बातें बना रहा है।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

(Last 14 days)

Facebook

To Top