उत्तर प्रदेश

भाजपा का मास्टर प्लान, महीने में 10 दिन UP के सीएम और मंत्री करेंगे यह काम

भाजपा का मास्टर प्लान, महीने में 10 दिन UP के सीएम और मंत्री करेंगे यह काम

भाजपा का मास्टर प्लान, महीने में 10 दिन UP के सीएम और मंत्री करेंगे यह काम

Photo

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी ने अपने मंत्रियों और विधायकों से ग्रामीण क्षेत्रों की स्थिति जानने के लिए हर महीने के अंत में कम से कम 10 दिेंन तक गांव में रहने के लिए कहा है। वहीं उत्तर प्रदेश में CM योगी आदित्यनाथ इस प्लान का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं और एक विस्तृत योजना तैयार करेंगे और ग्रामीण क्षेत्रों की अपनी यात्रा में पहले की तुलना में और बढ़ाने का प्रयास करेंगे ताकि गांवों का विकास हो सके।

5 राज्यों में विधानसभा चुनाव का ऐलान होने के बाद BJP की नजर अब लोकसभा चुनाव में अधिक से अधिक सीट लाने पर है। इसलिए मुख्यमंत्री समेत सभी को निर्देश दिया गया है कि वो अगले 6 महीने तक कम से कम विदेश दौरा करें और अधिक से अधिक समय अपने विधानसभा और संसदीय क्षेत्रों में बिताएं। इसका मतलब साफ है कि BJP यह जानती है कि वो शहरों में मजबूत है। लेकिन गांवों में पार्टी कमजोर पड़ रही है। हालांकि 2014 के लोकसभा चुनाव और 2017 विधानसभा चुनावों में ग्रामीण इलाकों से कुछ सीटें जीतने में सक्षम रही हैं, लेकिन उन्हें और ज्यादा मजबूती की जरूरत है।

UP भाजपा के मेरठ के कार्यकारी में फैसला किया गया कि पार्टी गांवों में चौपाल आयोजित करेगी और केंद्र और राज्य दोनों सरकारों के लाभार्थियों के साथ बातचीत करेगी। इसलिए मुख्यमंत्री ने उन्हें उनके साथ बातचीत करने का निर्देश दिया है। उत्तर प्रदेश BJP अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडे ने पहले ही ग्रामीण इलाकों में एक महीने में कम से कम 10 दिनों की योजना बनाने के लिए पार्टी के हर विधायक को यह जानकारी दी है। मंत्रियों की जिम्मेदारी और उत्तरदायित्व भी बाद में तय की जाएगी। योगी आदित्यनाथ ने कुछ मंत्री को जिम्मेदारी सौंपी है और उन्हें जिलों का प्रभारी बनाया गया है, लेकिन इन मंत्रियों में से कुछ के बारे में विचार उनके लिए अच्छा नहीं है, वो जिलों के बारे में गंभीर नहीं है जिनके लिए मुख्यमंत्री जिम्मेदार हैं  स्पष्ट है कि सभी मंत्री प्रभारी को अपने जिलों के कार्यकर्ता के साथ बेहतर समन्वय करना चाहिए।

साथ ही योगी आदित्यनाथ ने मंत्रियों को निर्देश दिया है कि वो पैसे का ज्यादा से ज्यादा उपयोग विकास कार्य के लिए करें। यह याद दिलाना है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) कार्यकर्ता पहले से ही ग्रामीण इलाकों में काम कर रहे हैं और इसी तरह विश्व हिंदू परिषद के साथ ग्रामीण आधार का विस्तार करने का मामला भी है। अब मंदिर के कारण तक पहुंचने की उनकी योजना में इसे आगे बढ़ाया जाएगा। लेकिन समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस की तुलना में पार्टी ग्रामीण क्षेत्रों में पार्टी को मजबूत करने के लिए कहा गया है।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top