राज्यउत्तर प्रदेश

मजदूरों की दयनीय दशा को लेकर भागीदारी संकल्प मोर्चा व सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के कार्यकर्ताओं ने काली पट्टी बांधकर रोष जताया

मजदूरों की दयनीय दशा को लेकर भागीदारी संकल्प मोर्चा व सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के कार्यकर्ताओं ने काली पट्टी बांधकर रोष जताया

मजदूरों की दयनीय दशा को लेकर भागीदारी संकल्प मोर्चा व सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के कार्यकर्ताओं ने काली पट्टी बांधकर रोष जताया

Photo

मजदूरों की दयनीय दशा को लेकर भागीदारी संकल्प मोर्चा व सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के कार्यकर्ताओं ने काली पट्टी बांधकर रोष जताया.

वैश्विक महामारी से निपटने के लिए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिना किसी पूर्व निर्धारित तैयारी के अचानक देश में लॉकडाउन घोषित करके मजदूरों और श्रमिकों के लिए मौत से भी भयावह परिस्थिति खड़ी कर दी है। इस विषम परिस्थिति में जहां गरीबों की मदद सरकार को करनी चाहिए वहां सरकार ने सिर्फ अमीरों और उद्योगपतियों की मदद की। श्रमिकों को जहां सहायता बढ़ाने की बात करनी चाहिए वहां श्रमिक कानून में 3 वर्षों के लिए बड़ा फेरबदल करके उद्योगपतियों को राहत एवं श्रमिकों के साथ धोखा किया।

पूरे देश में भूख प्यास से बदहाल श्रमिकों को जब कोई राह नहीं सूझा तो गरीब मजदूरों ने हजारों किलोमीटर पदयात्रा करके घर वापसी की दुर्गम राह को चुना।  फलस्वरुप सैकड़ों गरीब मजदूरों की जान रोड एक्सीडेंट, ट्रेन एक्सीडेंट और भूख तथा प्यास से हो गई। जिसकी लाइव तस्वीर सोशल मीडिया पर देखकर पूरा देश स्तब्ध हो गया। जहां ट्रेन की व्यवस्था सरकार ने मजदूरों के लिए किया भी वहां भाजपा के एजेंटो और उनके लोगों द्वारा लाचार मजदूरों से दो से तीन गुना किराया की खुलेआम वसूला गया। दूसरा बड़ा धोखा सरकार द्वारा देश के जीडीपी का 10% यानी 20 लाख करोड़ की आर्थिक राहत पैकेज की घोषणा में किया गया। सारा राहत MSME, एनबीएफसी ,पावर, इंफ्रास्ट्रक्चर को देकर गरीब और मध्यम वर्ग को सरकार ने बड़ी कुटिलता से आत्मनिर्भरता का पाठ पढ़ा दिया।

उत्तर प्रदेश में पिछड़ों, दलितों के साथ आए दिन अत्याचार और शोषण की घटनाओं में लगातार बाढ़ सी आई हुई है लेकिन सरकार के तरफ से इनकी सुरक्षा हेतु कोई इंतजाम नहीं किया जा रहा। प्रतापगढ़, अयोध्या, बुलंदशहर, इत्यादि जिलों में इन वर्गों की सरेआम हत्या की गई लेकिन सरकार मौन है।

राहत के नाम पर देश के वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा सरेआम झूठा बयान बाजी देश के गरीबों के साथ धोखा एवं उनका मजाक है। वित्त मंत्री ने 71738 मीट्रिक टन दाल तथा बिना कार्ड के राशन गरीबों को बांटने का सोशल मीडिया पर दावा किया जो सरकार के झूठ तंत्र की पोल खोलता है। इसलिए सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी एवं भागीदारी संकल्प मोर्चा द्वारा देश तथा प्रदेश की भाजपा सरकार के जन विरोधी फैसलों एवं गरीबों, मजदूरों, श्रमिकों के साथ किए गए सौतेला व्यवहार एवं धोखे के विरोध में काली पट्टी बांधकर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए सोशल मीडिया द्वारा आज 19-05-2020 को विरोध दर्ज कराया गया।

भागीदारी संकल्प मोर्चा के अंतर्गत सभी दलों के राष्ट्रीय कमेटी, प्रदेश कमेटी, मंडल कमेटी, जिला कमेटी, विधानसभा कमेटी, ब्लॉक कमेटी तथा ग्राम कमेटी के सभी विंग साथ ही फ्रंटल कमेटी एवं राष्ट्रीय सुहेल देव सेना ने इस विरोध प्रदर्शन में खुलकर सहभाग किया। सबका साथ सबका विकास की जगह गरीबों का साथ और अमीरों तथा उद्योगपतियों का विकास चाहने वाली भाजपा की दोहरी नीति को आज सोशल मीडिया द्वारा पूरे देश को बताया गया।

इस अवसर पर राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर, राष्ट्रीय कार्यालय प्रभारी पतिराम राजभर, प्रदेश प्रवक्ता सुनील सिंह, प्रदेश अध्यक्ष दलित संघ दिनेश पासवान, प्रदेशमहासचिव युवा मंच जावेद अंसारी "जाम", विधानसभा अध्यक्ष अवधेश कुमार राजभर, वरिष्ठ नेता राजेश राजभर उपस्थित रहे।

नवीनतम न्यूज़ अपडेट्स के लिए Twitter, Facebook पर हमें फॉलो करें और हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

Most Popular

-Advertisement-

Facebook

To Top